Connect with us

दुखद

छोटी सी बात और रजनीगंधा जैसी बेहतरीन फिल्म बनाने वाले बासु चटर्जी का निधन

Published

on

SHARE THIS

प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक बासु चटर्जी का 4 जून 2020 को मुंबई में निधन हो गया। वे 90 वर्ष के थे। बढ़ती उम्र के कारण होने वाली परेशानियों के चलते उन्होंने दुनिया को अलविदा कहा।

हृषिकेश मुखर्जी की तरह बासु चटर्जी को मध्यमार्गी सिनेमा का फिल्मकार माना जाता था। वे मनोरंजक अंदाज में अपनी फिल्मों के जरिये गहरी बात करते थे।

तीसरी कसम में सहायक निर्देशक के रूप में शुरुआत करने वाले बासु चटर्जी ने बाद में कई हल्की-फुल्की फिल्में बनाईं जो खूब पसंद की गई।

छोटी सी बात (1975), चितचोर (1976), रजनीगंधा (1974), पिया का घर (1972), प्रियतमा (1977), खट्टा मीठा (1978), बातों बातों में (1979) और शौकीन (1982) जैसी बेहतरीन फिल्में उन्होंने दी। उनकी एक रुका हुआ फैसला (1986) और कमला की मौत (1989) भी काफी सराही गईं।

उन्होंने दूरदर्शन के लिए टीवी सीरीज ‘ब्योमकेश बक्शी’ और लोकप्रिय ‘रजनी’ (टीवी सीरीज) का निर्देशन भी किया था। दोनों सफल टीवी धारावाहिकों में से एक थे।

10 जनवरी 1930 को अजमेर में जन्मे बासु चटर्जी की दो बेटियां सोनाली भट्टाचार्य और रूपाली गुहा हैं।

SHARE THIS

दुखद

खरगोन में पुल से नीचे गिरी यात्रियों से भरी बस, 15 की मौत और 25 से ज्यादा घायल, सीएम शिवराज ने किया मुआवजे का ऐलान

Published

on

SHARE THIS

मध्य प्रदेश के खरगोन में भीषण हादसा हुआ है। यहां एक यात्री बस पुल से नीचे जा गिरी। बस में 50 से ज्यादा यात्रियों के घायल होने की खबर है और 15 की मौत हो गई। जैसे ही बस नीचे गिरी उसमें सवार यात्रियों में चीख-पुकार मच गई। बताया जा रहा है कि ये बस इंदौर की ओर जा रही थी। हादसे की खबर मिलते ही डीएम शिवराज सिंह वर्मा,  खरगोन के एसपी धर्मवीर सिंह और खरगोन विधायक रवि जोशी मौके पर फौरन रवाना हो गए।

बताया जा रहा है कि हादसे के बाद मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने बस में फंसे घायलों को निकालकर तुरंत जिला अस्पताल पहुंचाया। ये घटना ऊन थाना क्षेत्र के ग्राम दसंगा पुल पर हई। वहीं इस बीच खरगोन में हुई बस दुर्घटना में मृतकों के परिवारजनों को सीएम शिवराज ने 4 लाख रुपए और गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार की की सहायता राशि देने की घोषणा की है। इसके अलावा कम और मामूली रूप से घायलों को 25 हजार और दुर्घटना में घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था मध्यप्रदेश सरकार द्वारा की जाएगी

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने खरगोन बस हादसे पर दुख जताया है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा, “बहुत दुखद पीड़ादायक प्रसंग है। 15 लोग काल के मुंह में समा गए हैं। 20 से 25 घायल हो गए हैं। इनका इलाज खंडवा के अस्पताल में कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने 4-4 लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है।”

SHARE THIS
Continue Reading

दुखद

रेलवे ट्रैक पर जवान बेटे के टुकड़े देखकर बेसुध हुआ पिता, शव के सामने बिलख रहे पिता की भी ट्रेन की चपेट में आने से मौत

Published

on

SHARE THIS

मध्य प्रदेश के होशंगाबाद (MP News) में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. पिता की आंखों के सामने उसके बेटे के टुकड़े हो गए. लाचार पिता सिर्फ रोता बिलखता रह गया. सुध-बुध खोने के बाद पिता ट्रेन की पटरी पर बैठकर रोने-चिल्लाने लगा. जिसके बाद सामने से आ रही एक ट्रेन (Man Jumped In Front Of Train) की चपेट में आने से पिता की भी मौत हो गई. दरअसल ट्रेन की चपेट में आने से वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया था. अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उसने भी दम तोड़ दिया.

रूह कंपा देने वाली ये घटना सोहागपुर के मारूपुरा में गुरुवार रात साढ़े 12 बजे हुई. खबर के मुताबिक 36 साल के छोटेलाल विश्वकर्मा का किसी बात से परिवार के बीच विवाद हो गया था. वह गुस्से में घर से चला गया था. उसे मनाने के लिए उनके पिता मोहनलाल भी उसके पीछे-पीछे पहुंच गए. गुस्साया बेटा छोटेलाल घर से 100 मीटर रलवे ट्रैक (Railway Track) पर बैठकर ट्रेन आने का इंतजार करने लगा. छोटेलाल के पिता मोहनलाल उसे मनाने की कोशिश कर रहे थे. तभी सामने से आ रही तेज स्पीड ट्रेन की चपेट में आने से छोटेलाल के शरीर के चिथड़े उड़ गए.

पत्नी से विवाद की वजह से तनाव में था छोटेलाल

आंखों के सामने जवान बेटे की मौत देखकर पिता मोहनलाल की रूह कांप गई. उनके बेटे के शीर के टुकड़े करीब 200 मीटर तक बिखर गए. वह अपनी सुध-बुध खो बैठे. रोत-बिलखते वह भी रेलवे ट्रैक पर बैठ गए. थोड़ी ही देर में पटरी पर से दूसरी ट्रेन गुजरी, जिसकी चपेट में आने से पिता मोहनलाल गंभीर रूप से घायल हो गए. ट्रेन के इंजन से टकराने की वजह से वह दूर जाकर गर गए. इस घटना में उनके सिर पर गंभीर चोट लग गई. अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उनकी भी मौत हो गई.

पिता-बेटे की मौत की खबर सुनते ही उनके मोहल्ले में मातम पसर गया. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया.वहीं परिवारिक विवाद भी भी विवेचना करने की बात पुलिस ने कही है. बताया जा रहा है कि दोनों बाप-बेटे फर्नीचर का काम करते थे. छोटेलाल की पत्नी प्रीति ससुराल में नहीं रहती थी. परिवार का कहना है कि दोनों के बीच आपसी विवाद चल रहा था. इसी वजह से वह तनाव में रहता था. घटना वाली रात को भी इसी बात पर परिवार के बीच कहासुनी हुई थी.

रेलवे ट्रैक पर गई पिता-बेटे की जान

पुलिस ने बताया कि छोटेलाल की शादी 11 साल पहले प्रीति नाम की महिला के साथ हुई थी. दोनों के दो बेटे भी हैं. किसी बात से नाराज होकर प्रीति दिवाली पर घर से चली गई थी. वह खेरुआ गांव में रह रही थी. उसके दोनों बच्चे अपनी दादी के पास थे. पत्नी के जाने से छोटेलाल काफी तनाव में था. इसी वजह से परिवार में कुछ कहासुनी हो गई थी. जिसके बाद छोटेलाल ने गुस्से में रेलवे ट्रेक पर अपनी जान दे दी. इस घटना के बाद उसके शरीर के अंग आसपास बिखर गए. जीआरपी ने मौके पर पहुंचकर उसके शरीर के अंगों को समेटा.

SHARE THIS
Continue Reading

दुखद

खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह का हार्ट अटैक से निधन… रात 2.30 बजे ली अंतिम सांस…

Published

on

SHARE THIS

रायपुर।छत्तीसगढ़ के खैरागढ़ विधानसभा सीट से विधायक देवव्रत सिंह का हार्ट अटैक के चलते देर रात निधन हो गया। रात 2.30 बजे उन्होने खैरागढ़ अस्पताल में अंतिम सांसे ली। बताया जा रहा है कि सीने में तकलीफ होने के बाद उन्हें देर रात अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उनका निधन हो गया।छत्तीसगढ़ की सियासत में कम उम्र में ही पहचान बनाने वाले नेता देवव्रत सिंह खैरागढ़ विधानसभा सीट से चार बार विधायक निर्वाचित हुए। इसके अलावा वह राजनांदगांव लोकसभा सीट से सांसद भी निर्वाचित हुए। देवव्रत सिंह FCI (भारतीय खाद्य निगम) के अध्यक्ष रहे।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending