Connect with us

देश-विदेश

*बड़ी खबर, UP के सोनभद्र जिले में दबा है 3000 टन से ज्यादा सोना*

Published

on

SHARE THIS

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के सोनभद्र जिले में लगभग 3000 टन सोना जमीन के अंदर दबा हुआ है। यूपी सरकार जल्द ही इसकी खुदाई का काम शुरू करवाने वाली है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) की टीम पिछले 15 साल से सोनभद्र जिले में काम कर रही थी और इस टीम ने 8 साल पहले ही जमीन में सोना होने की पुष्टि की थी। यूपी सरकार ने अब यहां खुदाई और नीलामी की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।

GSI के अनुसार सोनभद्र जिले के हरदी क्षेत्र में 645 किलो से ज्यादा, जबकि सोनभद्र पहाड़ी में 2945 टन के लगभग सोने का भंडार हैं। 2005 से जीएसआई की टीम सोने की तलाश के लिए काम कर रही थी। लंबी खोज के बाद जीएसआई की टीम ने 2012 में इस बात की पुष्टि की थी कि सोनभद्र की पहाड़ियों में सोना मौजूद है।

यूपी सरकार ने ई-टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों की नीलामी के लिए शासन ने 7 सदस्यीय टीम भी गठित की है। यह टीम पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग कर 22 फरवरी तक अपनी रिपोर्ट यूपी के भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय को सौंप देगी।

उस समय शोभन सरकार नामक एक बाबा ने कहा था कि उन्हें सपने में सोना होने का पता चला है। तब बाबा के कहने पर जिले के डोंडिया खेड़ा गांव में खुदाई की गई थी, लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा था।

SHARE THIS

देश-विदेश

गढ़चिरोली से 6 लाख की इनामी माओवादी राजेश्वरी गिरफ्तार, पुलिस ने किए कई खुलासे

Published

on

SHARE THIS

गढ़चिरोली: जिले की पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने गढ़चिरोली में 6 लाख की इनामी महिला माओवादी को गिरफ्तार किया है। महिला माओवादी पर महाराष्ट्र सरकार ने 6 लाख का इनाम घोषित किया हुआ था। बता दें कि फरवरी महीने में माओवादी अपना टीसीओसी काल मनाते हैं। इस दौरान माओवादी सरकारी संपत्ति या पुलिस बलों पर अक्सर हमला करते हैं। हालांकि इसी दौरान गढ़चिरोली पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने 6 लाख की इनामी जहाल महिला माओवादी राजेश्वरी ऊर्फ कमला पाडगा गोटा को गिरफ्तार किया है।

अब तक इन जगहों पर थी सक्रिय

पुलिस ने गिरफ्तार की गई महिला माओवादी सदस्य राजेश्वरी के बारे में जानकारी दी है। पुलिस ने बताया कि राजेश्वरी ऊर्फ कमला पाडगा गोटा साल 2006 में चेतना नाट्य मंच के सदस्य के रूप में शामिल होकर माओवादी आंदोलन में सक्रिय हुई। इसके बाद 2010-2011 में चेतना नाट्य मंच में डिप्टी कमाण्डर के पद पर पदोन्नत हुई। साल 2016 में फरसेगड दलम में उसका तबादला हो गया और वह 2019 तक इसमें एक सदस्य के रूप में कार्यरत रही। साल 2019 में ही छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले की तोयनार थाना पुलिस ने वन क्षेत्र में पुलिस पार्टी साथ हुई मुठभेड़ के संबंध में महिला माओवादी राजेश्वरी ऊर्फ कमला पाडगा गोटा को आपराधिक शिकायत में गिरफ्तार किया था। इसके बाद 2020 में जेल से रिहा होने के बाद 2023 तक वह टेलर टीम दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के तहत एसीम (एरिया कमिटी मेंबर) पद पर काम कर रही थी।

इन अपराधों में रही शामिल

वहीं इस माओवादी के कार्यकाल के दौरान किए गए अपराधों के बारे में भी पुलिस ने जानकारी दी है। पुलिस ने बताया कि यह महिला माओवादी अब तक 04 मुठभेड़ में शामिल हो चुकी है। इसमें सबसे पहले साल 2016 में छत्तीसगढ़ के वन क्षेत्र मौजा कर्रेमर्का में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में यह शामिल रही। वहीं 2016 में ही छत्तीसगढ़ के मौजा मरेवाडा वन क्षेत्र में भी पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में यह शामिल थी। इसके अलावा साल 2019 में छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में स्थित मौजा कचलाराम वन क्षेत्र में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में भी यह शामिल थी। फिर साल 2023 में गढ़चिरोली के मौजा केडमारा वन क्षेत्र में गढ़चिरौली पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में भी इसके शामिल होने की पुष्टि हुई है।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

पंकज उधास के निधन पर बोले पीएम मोदी..संगीत जगत में एक खालीपन आ गया

Published

on

SHARE THIS

भारत के मशहूर गजल गायक पंकज उधास का सोमवार 26 जनवरी को 72 साल की उम्र में निधन हो गया। जानकारी के मुताबिक, पंकज उधास को 10 दिनों पहले सांस लेने में दिक्कत के कारण दिन पहले  मुंबई के ब्रीच क्रैंडी अस्पताल में एडमिट करवाया गया था। यहीं पर सोमवार को 11 बजे उनका निधन हो गया। इस दुख की घड़ी पर तमाम फिल्मी और राजनीतिक हस्तियों की ओर से शोक संदेश जारी किया गया है। वहीं, देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पंकज उधास के निधन पर भावुक संदेश पोस्ट किया है। आइए जानते हैं पीएम ने क्या कहा।

संगीत जगत में एक खालीपन आ गया- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने पंकज उधास के निधन पर अपने X हैंडल से संदेश साझा किया है। उन्होंने लिखा- हम पंकज उधास जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हैं, जिनकी गायकी कई तरह की भावनाओं को व्यक्त करती थी। पीएम ने कहा कि पंकज उधास की गजलें सीधे आत्मा से बात करती थीं और उनकी धुनें पीढ़ियों से चली आ रही थीं। पीएम मोदी ने कहा कि मुझे पिछले कुछ वर्षों में पंकज उधास के साथ हुई अपनी विभिन्न बातचीतें याद हैं। उनके जाने से संगीत जगत में एक खालीपन आ गया है जिसे कभी नहीं भरा जा सकेगा। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदनाएं।

सीएम योगी व गडकरी क्या बोले?

गायक पंकज उधास के निधन पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिखा- प्रख्यात गायक, ‘पद्म श्री’ पंकज उधास जी का निधन अत्यंत दुःखद एवं संगीत जगत की अपूरणीय क्षति है। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान तथा उनके शोकाकुल परिजनों व प्रशंसकों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति दें। वहीं, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि मशहूर गजल गायक पंकज उधास जी के निधन का समाचार दु:खद है। उन्हें मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। गजल की दुनिया का बड़ा नाम रहे पंकज जी ने अपने गानों से लोगों के दिलों पर राज किया। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और परिजनों को संबल दे।

साल 2006 में मिला था पद्मश्री

उधास को फिल्म ‘नाम’ में गायकी से प्रसिद्धि मिली, जिसमें उनका एक गीत ‘चिठ्ठी आई है’ काफी लोकप्रिय हुआ था। उसके बाद से उन्होंने कई फिल्मों के लिए अपनी सदाबहार आवाज दी। इसके अलावा उन्होंने कई एल्बम भी रिकॉर्ड किये और एक कुशल गजल गायक के रूप में पूरी दुनिया में अपनी कला का प्रदर्शन किया। साल 2006 में पंकज उधास को पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

नहीं रहे पंकज उधास, 72 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

Published

on

SHARE THIS

बॉलीवुड के मशहूर गायक पंकज उधास का निधन हो गया है। सिंगर ने 72 साल की उम्र में आखिरी सांसें ली हैं। बताया जा रहा है कि वो लंब समय से बीमारी से जूझ रहे थे। सिंगर की बेटी नायाब ने उनके निधन की जानकारी दी है। उनका परिवार मुश्किल भरे दौर से गुजर रहा है। पंकज उधास का जन्म 17 मई 1951 को हुआ। वो एक गजल गायक के रूप में उभरे। भारतीय संगीत इंडस्ट्री में उनकी तुलना तलत अजीज़ और जगजीत सिंह जैसे अन्य संगीतकारों से होती थी।

परिवार का स्टेटमेंट

पंकज उधास की बेटी ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट जारी कर परिवार का स्टेटमेंट जारी किया है। इस पोस्ट में कहा गया, ‘अत्यंत दुख के साथ हम आपको बता रहे हैं कि पद्मश्री पंकज उधास का 26 फरवरी 2024 को निधन हो गया है। वे लंबे वक्त से बीमार थे।’ बताया जा रहा है कि सुबह 11 बजे उनकी मुंबई के एक अस्पताल में मौत हुई थी। पंकज उधास का पार्थिव शरीर अभी ब्रीच कैंडी अस्पातल में ही है। भाइयों का इंतजार किया जा रहा है। कल अंतिम संस्कार किया जाएगा।

साल 2006 में मिला था पद्मश्री

उधास को फिल्म ‘नाम’ में गायकी से प्रसिद्धि मिली, जिसमें उनका एक गीत ‘चिठ्ठी आई है’ काफी लोकप्रिय हुआ था। उसके बाद से उन्होंने कई फिल्मों के लिए अपनी सदाबहार आवाज दी। इसके अलावा उन्होंने कई एल्बम भी रिकॉर्ड किये और एक कुशल गजल गायक के रूप में पूरी दुनिया में अपनी कला का प्रदर्शन किया। साल 2006 में पंकज उधास को पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

राजकोट में हुआ था पंकज उधास का जन्म

पंकज उधास का जन्म गुजरात में राजकोट के पास चारखड़ी-जैतपुर में एक जमींदार चारण परिवार में हुआ था। वे तीन भाइयों में सबसे छोटे थे। पंकज कि पिता का नाम केशूभाई उधास था। पंकज के बड़े भाई भी सिंगर थे। मनोहर उधास ने बॉलीवुड में हिंदी पार्श्व गायक थे। उन्होंने पंकज से पहले ही बॉलीवुड में अलग पहचान बना ली थी। उनके दूसरे बड़े भाई निर्मल उधास भी एक प्रसिद्ध गजल गायक हैं। सबसे पहले निर्मल ने ही गायकी की दुनिया में कदम रखा।

 

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending