Connect with us

खबरे छत्तीसगढ़

*मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री को लिखा पत्र ,एनएमडीसी की खदानों से छत्तीसगढ़ के उद्योगों को आयरन ओर रियायती दर पर सुगमता से उपलब्ध कराने का किया आग्रह*

Published

on

SHARE THIS

रायपुर । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय इस्पात धर्मेन्द्र प्रधान को छत्तीसगढ़ के लौह खनिज आधारित लघु उद्योगों और स्पंज आयरन उद्योगों को एनएमडीसी की प्रदेश में संचालित लौह अयस्क की खदानों से आयरन ओर रियायती दर पर सुगमता से उपलब्ध कराने के संबंध में पत्र लिखा है। श्री बघेल ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री से इस वर्ष जनवरी माह में एनएमडीसी द्वारा लौह अयस्क के मूल्य में की गई वृद्धि तत्काल प्रभाव से वापस लेने और छत्तीसगढ़ के लौह खनिज आधारित लघु उद्योगों और स्पंज आयरन उद्योगों के हित में उचित दीर्घकालिक रियायती दर निर्धारित करने का आग्रह किया है।

मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा है कि मुझे स्पंज आयरन ओर एसोसिएशन के माध्यम से अवगत कराया गया है कि एनएमडीसी द्वारा खनिज आयरन ओर लम्प (डीआरसीएलओ) के 3 जनवरी 2020 से पूर्व लागू दर के बेसिक मूल्य में प्रति टन 230 रूपए की वृद्धि की गई है। इसके बाद पुनः 22 जनवरी 2020 को एनएमडीसी के द्वारा खनिज आयरन ओर लम्प (डीआरसीएलओ) के मूल्य में 470 रूपए प्रति टन की वृद्धि की गई है। इस प्रकार विगत मात्र 16 दिनों में खनिज आयरन ओर लम्प (डीआरसीएलओ) के बेसिक मूल्य में 700 रूपए की वृद्धि की गई है। इस मूल्य के आधार पर खनिज की रायल्टी एवं अन्य कर को मिलाकर आयरन ओर की कीमत में कुल 875 रूपए प्रति टन की वृद्धि हो गई है। इस वृहद स्वरूप की मूल्य वृद्धि के कारण उत्पादित इस्पात के मूल्य में 2000 रूपए प्रति टन की वृद्धि हो रही है।
श्री बघेल ने पत्र में यह भी लिखा है कि पिछले एक महीने में स्टील की कीमतों में वृद्धि हुई है, लेकिन पहले से ही उत्पादन की लागत में वृद्धि हुई थी। स्टील की कीमत में बढ़ोत्तरी उद्योगों के लिए राहत का विषय था, किन्तु एनएमडीसी द्वारा आयरन ओर की दरों में अप्रत्याशित वृद्धि के बाद एनएमडीसी की खदानों से आयरन ओर प्राप्त करने में प्रदेश के स्पंज आयरन तथा स्टील उद्योगों के संचालन में वृहद कठिनाई तथा इस्पात के उत्पादन में व्यवधान उत्पन्न हो रहा है। जबकि एनएमडीसी द्वारा अपनी खदानों में क्षमता के अनुसार अधिकतम उत्पादन किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री श्री प्रधान को पत्र में लिखा है कि राज्य शासन द्वारा विगत माह में दक्षित बस्तर दंतेवाड़ा जिले में एनएमडीसी की 4 आयरन ओर खदानों की लीज 20 वर्ष की अवधि विस्तार के आदेश जारी किए गए हैं। जिसमें यह शर्त उल्लेखित है कि ‘एनएमडीसी द्वारा राज्य में संचालित लौह अयस्क आधारित उद्योगों को उनके आवश्यकतानुसार लौह अयस्क की आपूर्ति निरंतर बनाई रखी जानी होगी।’’ उक्त शर्त की पूर्ति तभी संभव हो पाएगी जब एनएमडीसी द्वारा दीर्घकालिक उचित रियायती दर का निर्धारण होगा।
श्री बघेल ने पत्र में लिखा है कि छत्तीसगढ़ राज्य में विभिन्न खनिजों के अकूत भण्डार विद्यमान हैं, जिनमें से आयरन ओर एक प्रमुख खनिज है। विश्व स्तर की खनिज आयरन ओर की खदानें राज्य के दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिले में हैं, जहां एनएमडीसी की कुल 5 व्यवसायिक खदानें संचालित हैं। प्रदेश के विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में खनिज आयरन ओर आधारित लघु एवं स्पंज आयरन संयंत्र संचालित हैं, जिसे एनएमडीसी की अपर्युक्त लौह अयस्क खदानों से लौह अयस्क रियायती दर पर क्रय किया जाता है। प्रदेश में स्पंज आयरन एसोसिएशन कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इण्डस्ट्री (सीआईआई) द्वारा राज्य निवेश प्रोत्साहन बोर्ड के माध्यम से प्रदेश में संचालित स्पंज आयरन उद्योगों को सुगमता से संचालन हेतु आधारभूत आवश्यकता के अनुसार आयरन ओर उपलब्ध कराने के लिए समय-समय पर लिखा गया है।
मुख्यमंत्री ने पत्र में केन्द्रीय मंत्री को बताया है कि राज्य शासन द्वारा इस संबंध में 11 जुलाई 2019 को अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक, एनएमडीसी लिमिटेड को पत्र प्रेषित कर राज्य निवेश प्रोत्साहन बोर्ड के माध्यम से प्राप्त प्रस्ताव के परिप्रेक्ष्य में खनिज आयरन ओर को सुगमता से रियायती दरों पर उपलब्ध कराने के लिए आग्रह किया गया है। जिसके परिप्रेक्ष्य में एनएमडीसी ने 25 सितम्बर 2019 के पत्र में छत्तीसगढ़ राज्य की औद्योगिक इकाईयों के लिए खनिज आयरन ओर की दर में जून 2019 से 13 प्रतिशत कमी किए जाने एवं मांग के अनुसार स्पंज आयरन ओर (डीआरसीएलओ) छत्तीसगढ़ राज्य की औद्योगिक इकाईयों को प्राथमिकता से आपूर्ति किए जाने तथा स्पंज आयरन उद्योगों में सीधे उपयोग हेतु आयरन ओर उपलब्ध कराने के संबंध में लिखा है।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री ने अनुरोध किया है कि प्रदेश की एनएमडीसी की खदानों से छत्तीसगढ़ राज्य में लौह अयस्क आधारित उद्योगों और स्पंज आयरन उद्योगों को रियायती दर पर आवश्यकतानुसार लौह अयस्क उपलब्ध कराने के लिए 20 जनवरी 2020 को की गई मूल्य वृद्धि को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाए तथा उचित दीर्घकालिक रियायती दर निर्धारित कर लौह अयस्क की आपूर्ति हेतु विशेष पहल करते हुए समुचित कार्यवाही की जाए।

SHARE THIS

खबरे छत्तीसगढ़

प्रियंका जी आंख में आज भी भूपेश बघेल के भ्रष्टाचार के दिए पैसे का पर्दा पड़ा हुआ है  :पवन साहू

Published

on

SHARE THIS

अमन पथ न्यूज़ बालोद से उत्तम साहू : कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी 21अप्रैल रविवार को बालोद दौरे पर रही उनके सभा के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष पवन साहू ने कहा आज प्रियंका गांधी जिले की जनता को संविधान का डर दिखाकर वोट बटोरने के जुगत में रही।उन्होंने कहा कि भूपेश बघेल आज भी अपनी गलती का ठीकरा अपने विधायकों पर फोड़ रहे हैं जबकि वह मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने जयसिंह अग्रवाल के भ्रष्टाचार के पत्र, मोहन मरकाम द्वारा उठाए गए डीएमएफ घोटाले का मामला और सिंहदेव के द्वारा उठाए गए प्रधानमंत्री आवास के विषय को नजरअंदाज कर दिया था। इसीलिए कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी एवं पूर्व विधायाकगण भूपेश और गाँधी परिवार पर आरोप लगाकर कांग्रेस छोड़ कर लोग बाहर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में मतदान का अधिकार की बात करने वाली प्रियंका ने अपने दादी द्वारा लगाया गया आपातकाल के लिए माफी मांगना चाहिए।उनके मुंह से परिवारवाद और भ्रष्टाचार की बाते शोभा नहीं देती है और आपके भूपेश सरकार ने भ्रष्टाचार के मामले में भगवान महादेव तक को नहीं बक्शा।

भाजपा प्रवेश प्रवक्ता देवलाल ठाकुर ने प्रियंका गाँधी से सवाल करते हुए कहा कि जब आप छत्तीसगढ़ आई तो आपके पीए द्वारा कांग्रेस नेत्री अर्चना गौतम से किया दुर्व्यवहार के बारे में अपने क्यों कुछ नहीं बोला। अध्ययन की कमी कांग्रेस में बहुत ज्यादा है प्रियंका जी को मालूम नहीं की छत्तीसगढ़ के किसानों से 3100 में 21 क्विंटल धान खरीदा जा रहा है और सारा पैसा एकमुश्त मिलता है कांग्रेसियों के समान उन्हें रुला-रुला कर किश्तों में नहीं दिया जाता और उनके साथ-साथ 6000 रूपए किसान सम्मान निधि भी दिया जाता है साथ ही उनको 2 साल का बकाया बोनस भी दिया गया है। उन्होंने कहा कि शायद प्रियंका जी भूपेश बघेल ने बताया नहीं कि बिजली बिल आज भी आधा है।

जिला भाजपा महामंत्री राकेश छोटू यादव ने कहा कि भूपेश ने वादा करके भी महिला स्व सहायता समूह के कार्य छीनकर अपने मित्रों को दे दिए थे साय सरकार आते ही उसे पुनः वह कार्य मिल गया है। भूपेश जी 35 किलो चावल देते थे वह योजना भाजपा शासन काल में बनी है। जबकि भूपेश बघेल ने कोरोना कल में प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा दिए गरीब अन्य कल्याण योजना के अतिरिक्त 5 किलो चावल पर 5000 करोड़ का भ्रष्टाचार किया वह 33 महीने तक उसे गरीबों तक पहुंचने नहीं दिया। छत्तीसगढ़ में गौठानों की प्रशंसा करने वाली प्रियंका जी को यह भी बताना चाहिए था, कि कैसे गौठानों के नाम गोबर तक में कांग्रेस की सरकार ने घोटाला किया गया। उन्होंने आगे कहा कि प्रियंका जी संविधान बदलने की डर दिखाकर वोट मांगने की कोशिश कर रही हैं, क्योंकि इन्हें डर है कि कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के सारे भ्रष्टचारी नेता जेल चले जाएंगे। रही बात सविंधान बदलने कि तो कांग्रेस के न्याय पत्र में है कि संविधान बदलकर मानहानि केस, 370 धारा कांग्रेस खत्म करेगी। प्रियंका जी, जनता जानती है कि कांग्रेस झूठे न्याय पत्र से वोट बटोरेगी वह जानती है कि आपकी छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार ने 500 रुपए निराश्रित महिलाओं पेंशन, विधवा पेंशन, बुजुर्ग पेंशन नहीं दे पाई तो 1 लाख रूपए सालाना देने कि बात झूठी रहेगी।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे छत्तीसगढ़

30 लोगों से भरी पिकअप बीच सड़क पर पलटी, 20 लोग गंभीर

Published

on

SHARE THIS

रायगढ़ :  जिले के घरघोड़ा थाना क्षेत्र के तमनार रोड में सड़क दुर्घटना की खबर समाने आई है. पीकअप पलटने से उस पर सवार करीब 20 महिला और पुरुष घायल हुए है. मिली जानकारी के अनुसार बहिरकेला से लगभग 30 लोग पीकअप पर सवार होकर तमनार जांजगीर छठी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जा रहे थे. तभी झारियापाली देवगढ़ के बीच पीकअप अनियंत्रित होकर पलट गई. इससे मौके पर चीख पुकार मच गई.

बताया जा रहा है की पीकअप में 30 लोग सवार थे, जिसमें से लगभग 20 महिला और पुरुष घायल हुए, जिन्हें घरघोड़ा स्वास्थ्य केंद्र लाया गया. घरघोड़ा स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों और नर्सिंग स्टॉप की टीम घायलों को त्वरित इलाज मुहैया कराया. गंभीर रूप से घायल 6 लोगों को जिला अस्पताल रिफर किया गया है.

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के सभी स्कूलों में कल से ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित, इस तारीख से खुलेंगे स्कूल,शासन ने जारी किया आदेश

Published

on

SHARE THIS

बलौदाबाजार :  राज्य सरकार की ओर से प्रदेश में बढ़ते गर्मी और तापमान को देखते हुए बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर ग्रीष्मकालीन अवकाश का आदेश जारी कर दिया गया है. सरकार के आदेशानुसार 22 अप्रैल 2024 से 15 जुन 2024 तक प्रदेश के सभी शासकीय-अशासकीय अनुदान और गैर अनुदान प्राप्त स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश दिया गया है.

मगर यह आदेश शासकीय स्कूलों के शिक्षकों के लिए नहीं होगा. छत्तीसगढ़ सरकार से मिले आदेश के बाद बलौदाबाजार जिले में भी कलेक्टर ने जिला शिक्षाधिकारी को आदेश का परिपालन करने कहा है. बता दें कि प्रदेश में अभी 40 से 45 डिग्री के बीच तापमान है, जिसको देखते हुए आदेश जारी किया गया है.

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending