Connect with us

आस्था

*साईं बाबा कहां जन्मे थे, कहां है उनका असली जन्म स्थान?*

Published

on

SHARE THIS

साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट शिरडी तथा शहर के लोग इस समय बेहद नाराज हैं। इसका कारण है महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा महाराष्ट्र के पाथरी (परभणी में) को सांई बाबा की जन्मभूमि बताने और इस स्थल के विकास के लिए 100 करोड़ रुपए का बजट दिए जाने की घोषणा।

इस घोषणा के बाद साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट ने इसका विरोध करते हुए कहा कि हमने अफवाहों के ‍खिलाफ 19 जनवरी से शिर्डी को बेमियादी बंद करने की घोषणा की है। साल में यह पहला मौका होगा जब शिर्डी में बंद होगा।

ट्रस्ट मानता है कि साईं बाबा पर एकमात्र प्रामाणिक पुस्तक है श्रीगोविंदराव रघुनाथ दाभोलकर द्वारा लिखित ‘श्री साईं सच्चरित्र’ जिसमें इसका कोई उल्लेख नहीं है कि साईं बाबा का जन्म कहां हुआ था। इस पुस्तक में उनके जन्म और बचपन की कोई जानकारी नहीं मिलती है। यही वजह है कि साईं ट्रस्ट पाथरी को सांई के जन्म के रूप में विकसित करने का विरोध करता है।

साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर क्या हैं अन्य आधार : हालांकि साईं बाबा के जन्म, बचपन और शिरडी में उनके द्वारा बिताए जीवन के बारे में अन्य कई किताबें लिखी गई हैं जिनमें से कुछ में उनके जन्म स्थल के बारे में संक्षिप्त जानकारी मिलती है।

‘सद्‍गुरु साईं दर्शन’ (एक बैरागी की स्मरण गाथा) : साईं के बचपन पर एक किताब कन्नड़ में भी लिखी गई है जिसका नाम अज्ञात है। लेखक का नाम है- बीव्ही सत्यनारायण राव (सत्य विठ्ठला)। विठ्ठला ने यह किताब उनके नानानी से प्रेरित होकर लिखी थी। उनके नानाजी साईं बाबा के पूर्व जन्म और इस जन्म अर्थात दोनों ही जन्मों के मित्र थे। इस किताब का अंग्रेजी में अनुवाद प्रो. मेलुकोटे के. श्रीधर ने किया और इस किताब के कुछ अंशों का हिन्दी में अनुवाद शशिकांत शांताराम गडकरी ने किया। हिन्दी किताब का नाम है- ‘सद्‍गुरु सांईं दर्शन’ (एक बैरागी की स्मरण गाथा)। इस किताब में साईं बाबा का जन्म स्थान ‘पाथरी’ ही बताया गया है।

‘ए यूनिक सेंट साईं बाबा ऑफ शिर्डी’ : यह किताब श्री विश्वास बालासाहेब खेर और एमवी कामथ ने लिखी थी। खेर ने यह किताब साईं बाबा के समकालीन भक्त स्वामी साईं शरणानंद की प्रेरणा से लिखी थी। इस किताब में पाथरी को शिरडी के साईं बाबा का जन्म स्थान माने जाने के प्रमाण दिए गए हैं।

खेर ने ही साईं की जन्मभूमि पाथरी में बाबा के मकान को भुसारी परिवार से चौधरी परिवार को खरीदने में मदद की थी जिन्होंने उस स्थान को साईं स्मारक ट्रस्ट के लिए खरीदा था। शरणानंदी की किताब का नाम है- ‘श्री साईं द सुपरमैन’

सत्य साईं बाबा ने किया था खुलासा : साईं बाबा के बारे में सबसे सटीक जानकारी सत्य साईं बाबा द्वारा दी गई है जिन्हें बाबा का अवतार ही माना जाता है। उन्होंने उनका जन्म स्थान पाथरी गांव ही बताया है। सत्य साईं बाबा मानते थे कि शिरडी के सांई बाबा का जन्म 27 सितंबर 1830 को महाराष्ट्र के पाथरी (पातरी) गांव में हुआ था।

ऐसा विश्वास किया जाता है कि महाराष्ट्र के परभणी जिले के पाथरी गांव में साईं बाबा का जन्म हुआ था और सेल्यु में बाबा के गुरु वैकुंशा रहते थे। पाथरी में सांई के जन्म स्थान पर एक मंदिर है। मंदिर में सांई की आकर्षक मूर्ति रखी हुई है। वहां पुरानी वस्तुएं जैसे बर्तन, घट्टी और देवी-देवताओं की मूर्तियां भी रखी हुई हैं।

मंदिर के व्यवस्थापकों के अनुसार यह साईं बाबा का जन्मस्थान है। इस किताब के अनुसार शिरडी सांई बाबा का जन्म भुसारी परिवार में हुआ था, जिनके पारिवारिक देवता कुम्हार बावड़ी के श्री हनुमान थे, जो पाथरी के बाहरी इलाके में है।

उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने एक खबर दिखाई गई थी जिसके अनुसार साईं बाबा के वंशज आज भी औरंगाबाद, निजामाबाद और हैदराबाद में रहते हैं। साईं के बड़े भाई रघुपति के 2 पुत्र थे- महारुद्र और परशुराम बापू।

महारुद्रजी के जो बेटे हैं, उनमें से एक रघुनाथजी थे जिनके पास पाथरी का मकान था। रघुनाथ भुसारीजी के 2 बेटे और 1 बेटी है- दिवाकर भुसारी, शशिकांत भुसारी और एक बेटी जो नागपुर में है। दिवाकर हैदराबाद में और शशिकांत निजामाबाद में रहते हैं। परशुराम के बेटे भाऊ थे। भाऊ को प्रभाकर राव और माणिक राव नामक 2 पुत्र थे। प्रभाकर राव के प्रशांत, मुकुंद, संजय नामक बेटे और बेटी लता पाठक हैं, जो औरंगाबाद में रहते हैं। माणिकराव भुसारी को 4 बेटियां हैं- अनिता, सुनीता, सीमा और दया।

हालांकि शिरडी के साईं बाबा की जन्मतिथि और स्थान को लेकर कोई पुख्ता प्रणाम नहीं हैं। उपरोक्त सभी संदर्भ पुस्तकों और अन्य सूत्रों के हवाले से हैं।

SHARE THIS

आस्था

आज ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन करें ये उपाय, जीवन की हर समस्या होगी दूर

Published

on

SHARE THIS

आज स्नान-दान की पूर्णिमा है। बता दूँ कि जब पूर्णिमा दो दिनों की होती है तो पहले दिन व्रत किया जाता है और दूसरे दिन स्नान-दान आदि किया जाता है। पूर्णिमा तिथि बीते हुये कल यानि 21 जून की सुबह 7 बजकर 33 मिनट से आज सुबह 6 बजकर 38 मिनट तक थी। लिहाजा व्रतादि की पूर्णिमा तो कल ही मनायी जा चूकी है और आज उदया तिथि पूर्णिमा में स्नान-दान की पूर्णिमा मनायी जा रही है। आज के दिन देव स्नान पूर्णिमा भी है । आज के दिन भगवान जगन्नाथ की जलयात्रा निकाली जायेगी। आज ज्येष्ठ पूर्णिमा के शुभ अवसर पर कुछ उपाय करके आप अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।

  • अगर आपकी शादीशुदा जिंदगी में किसी प्रकार की परेशानी चल रही है तो आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद बिल्ववृक्ष के पास जाना चाहिए और वहां जाकर वृक्ष के पास धूप जलानी चाहिए। इसके बाद उस धूप से निकलते धुएं को अपने दोनों हाथों से लेकर अपनी बंद आंखों पर धीरे-धीरे करके लगाएं और हाथों को कान के पीछे तक ले जायें। अब अपनी आंखों को खोल लें और बिल्व वृक्ष को प्रणाम करके घर वापिस आ जायें। आज के दिन ऐसा करने से आपकी शादीशुदा जिंदगी में चल रही परेशानी जल्द ही समाप्त होगी।
  • अगर आप अपनी जिंदगी को खुशियों से भरना चाहते हैं तो आज के दिन स्नान आदि के बाद साफ कपड़े पहनें । इसके बाद एक लोटे में जल लेकर बिल्व वृक्ष, यानि बेल के पेड़ के पास जायें और उसकी जड़ में जल चढ़ाएं। साथ ही ‘ऊँ’ शब्द का उच्चारण करें। आज के दिन ऐसा करने से आपकी जिंदगी खुशियों से भर जायेगी।
  • अगर लवमेट के साथ आपकी किसी बात को लेकर अनबन चल रही है तो आज के दिन स्नान आदि के बाद एक पात्र में जौ के दाने लेकर, पात्र समेत बिल्व वृक्ष के नीचे रख आयें और दो मिनट वहीं बैठकर भगवान शिव का ध्यान करें। आज के दिन ऐसा करने से लवमेट के साथ चल रही अनबन जल्द ही दूर होगी।
  • अगर आप हर प्रकार की परेशानियों से मुक्ति पाना चाहते हैं तो आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद बिल्व वृक्ष के पास जाकर मिट्टी के दीपक में घी और बाती डालकर ज्योत जलानी चाहिए।साथ ही बेल का फल लेकर शिवजी को अर्पित करना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आपको हर प्रकार की परेशानियों से मुक्ति मिलेगी।
  • अगर आप जीवन में अथाह धन लक्ष्मी की प्राप्ति करना चाहते हैं तो आज के दिन आपको खीर और घी के साथ बिल्व वृक्ष, यानि बेल के पेड़ की समिधाओं से हवन करना चाहिए। बिल्व वृक्ष की समिधाएं आपको किसी भी पंसारी की दुकानसे आसानी से मिल जायेगी। आज के दिन बिल्व वृक्ष की समिधाओं से होम करने से आपको अथाह धन लक्ष्मी की प्राप्ति होगी।
  • अगर आप अपनी संतान की जीवन में तरक्की देखना चाहते हैं तो आज के दिन स्नान आदि के बाद एक मुट्ठी गेहूं के दाने लीजिये और उन्हें अपनी संतान के हाथों से स्पर्श कराइए। अब बेल के पेड़ के पास जाकर उन गेहूं के दानों को वहीं जमीन में दबा दें। आज के दिन ऐसा करने से आपकी संतान की तरक्की ही तरक्की होगी।
  • अगर आप अपने शत्रुओं की नित नई चालों से परेशान हैं तो उनसे बचने के लिये आज के दिन आपको शिव मंदिर में दूध का पैकेट दान करना चाहिए। साथ ही माता पार्वती और भगवान शिव का आशीर्वाद लेना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से शत्रुओं की नित नई चालों से आपको जल्द ही छुटकारा मिलेगा।
  • अगर आप अपनी कोई इच्छा पूरी करना चाहते हैं तो आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद बिल्व पत्रों से उमा-महेश्वर की विधि-पूर्वक पूजा करनी चाहिए। साथ ही मंत्र का जप करना चाहिए। मंत्र है-‘ऊँ नमः शिवाय’आज के दिन ऐसा करने से आपकी इच्छा जल्द ही पूरी होगी।
  • अगर आप अपने परिवार की समृद्धि बनाये रखना चाहते हैं तो उसके लिये आज के दिन आपको एक मिट्टी के पात्र में चावल लेने चाहिए और बेल के पेड़ के पास जाकर, पेड़ को प्रणाम करके पात्र सहित चावल वहां रखकर आने चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आपके परिवार की समृद्धि बनी रहेगी।
  • अगर आपके और आपके जीवनसाथी के बीच अनबन इतनी बढ़ गई है कि बात अब कोर्ट-कचहरी तक जा पहुंची है और आप उससे बाहर नहीं निकल पा रहे हैं तो उससे बाहर निकलने के लिये आज के दिन आपको बेल पत्रों से होम करना चाहिए। आप चाहें तो ये होम किसी ब्राह्मण से करवा सकते हैं या फिर स्वयं भी घर पर होम कर सकते हैं। आज के दिन बेल पत्रों से होम करने से आपकी समस्या का हल निकलेगा और आपका जीवनसाथी धीर-धीरे करके आपके प्रति कुछ नरमी बरतेगा।
  • अगर आप अपने कार्यों में सफलता पाना चाहते हैं तो आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद एक लोटे में जल लेना चाहिए और उसमें कुछ बेल पत्र डालने चाहिए। अब शिव मंदिर जाकर शिवलिंग पर वो जल अर्पित करना चाहिए आज के दिन ऐसा करने से आपको अपने कार्यों में सफलता जरूर मिलेगी।
  • अगर आप अपने लवमेट के साथ अपने प्यार के रिश्ते को शादी में बदलना चाहते हैं तो इस शुभ काम के लिये आज के दिन आपको 21 बेल पत्र लेकर उन्हें सफेद मोटे धागे में पिरोकर उनकी एक माला बनानी चाहिए और भगवान शंकर को वो माला अर्पित करनी चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से लवमेट के साथ आपके प्यार का रिश्ता जल्द ही शादी में बदल जायेगा।

SHARE THIS
Continue Reading

आस्था

जानिए राशि के अनुसार आपका दिन कैसा रहेगा और किन उपायों से इसे आप बेहतर कर सकते हैं

Published

on

SHARE THIS

Aaj Ka Rashifal 22 June 2024: आज ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की उदया तिथि पूर्णिमा और शनिवार का दिन है। पूर्णिमा तिथि आज सुबह 6 बजकर 38 मिनट पर समाप्त हो चुकी है। फिलहाल आषाढ़ कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि चल रही है। आज शाम 4 बजकर 45 मिनट तक शुक्ल योग रहेगा। साथ ही आज शाम 5 बजकर 54 मिनट तक मूल नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा स्नान-दान की पूर्णिमा है। आज संत कबीर दास जी की जयंती भी है। जानिए कैसा रहेगा आपके लिए 22 जून 2024 का दिन और किन उपायों से आप ये दिन बेहतर बना सकते हैं। साथ ही जानते हैं कि आपके लिए लकी नंबर और लकी रंग कौन सा होगा।

मेष राशि- 

आज का दिन लाभ देने वाला है। इस राशि के लोगों को आज धन की प्राप्ति हो सकती है। महिलाओं के लिए आज का दिन बहुत ही अच्छा है। उन्हें अपने ननिहाल या मायके की तरफ से खुशखबरी मिल
सकते हैंं। आज आपके विचारों को ऑफिस में सीनीयर्स की तरफ से पॉजिटिव रिसपॉन्स मिलेगा। आज आप भविष्य के लिए कोई खास निर्णय ले सकते हैंं। जो आगे चलकर कारगर साबित होगा। आज समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा।

  • शुभ रंग- गुलाबी
  • शुभ अंक- 5

वृष राशि-

आज का दिन बेहतरीन रहेगा। आज आपका कोई मित्र या रिश्तेदार आपसे मिलने आपके घर आ सकता है। आज आपको किसी अनजान व्यक्ति से सतर्क रहने की आवश्यकता है। आज आपकी सारी इच्छाओं की पूर्ति हो सकती है। आज आपका धार्मिक कार्यों में रुझान बढ़ सकता है। आर्थिक पक्ष मजबूत बना रहेगा। आज जॉब सर्च करने वालों को किसी मल्टीनेशनल कंपनी से ऑफर मिल सकता है। लवमेट के लिए आज का दिन अच्छा रहेगा। स्टूडेंस पढ़ाई के लिए विदेश भी जा सकते हैं।

  • शुभ रंग- हरा
  • शुभ अंक- 8

मिथुन राशि-

आज का दिन लाभदायक रहने वाला है। आज आपके करीबी आपको अचानक से गिफ्ट देकर चकित कर सकते हैंं। कोर्ट कचहरी के मामलों में आज आपको सफलता हासिल मिलेगी। आज आप शाम का समय
बच्चों के साथ व्यतीत कर सकते हैं। इस राशि के लोग आज बिजनेस में सोच-समझकर कर फैसला लें इससे आपको सफलता की प्राप्ति होगी। छात्रों के लिएआज का दिन अच्छा रहने वाला है। नव विवाहित दंपत्ति आज एक दूसरे को समझने की कोशिश करेंगे।

  • शुभ रंग- ग्रे
  • शुभ अंक- 1

कर्क राशि-

आज का दिन आपकी मनोकामना पूरी करने वाला है। आज आपको लोगों के बीच अपनी अच्छी छवि बनाने का पूरा मौका मिलेगा। आज आपके विरोधी आपसे दूर ही रहेंगे। आज आप दोस्तों के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं। आज नया इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीद सकते हैंं। आज भाई आपसे पढाई के विषय में जानकारी लेंगे। आज व्यापार में अच्छा लाभ होने से आपका आर्थिक पक्ष मजबूत बनेगा।

  • शुभ रंग- पीला
  • शुभ अंक- 9

सिंह राशि-

आज का दिन आपके लिएअच्छे परिणाम लेकर आएगा। यह परिणाम व्यवसाय से जुड़ा हो सकता है। आज आपके जीवन में खुशियों की बौछार होगी। आज एकाधिक स्रोतों से आपकी आय में बढ़ोतरी होगी। आपकी तरक्की से आज घरवालों को आप पर गर्व होगा। मन में नए-नए विचार उत्पन्न होंगे घर के सुख-सौभाग्य में बढ़ोत्तरी होगी।

  • शुभ रंग- नारंगी
  • शुभ अंक- 6

कन्या राशि-

आज का आज का दिन आपके लिए मिला-जुला रहने वाला है। आज किसी काम को पूरा करने के लिए नये तरीकों पर विचार करेंगे। नए वाहन का सुख प्राप्त होगा। जीवनसाथी का भरपूर सहयोग मिलेगा। आज कार्यों में आपको माता-पिता का सहयोग मिलेगा। विद्यार्थी खूब मन लगाकर पढ़ाई करते हुए नजर आएंगे। ऑफिस में आपके अच्छे परफॉरमेंस के लिएआपको सम्मानित किया जा सकता है।

  • शुभ रंग- गोल्डन
  • शुभ अंक- 9

तुला राशि-

आज आपका दिन अच्छा रहने वाला है। आज आपको शासन व सत्ता का पूरा लाभ मिलेगा और आपके प्रभाव व प्रताप में वृद्धि होने से आपको खुशी होगी। संतान की सफलता आपको प्रसन्न कर सकती है। इस राशि के लोगों के व्यापार में आज दो गुना वृद्धि हो सकती है। अगर घर में कोई परिवर्तन संबंधी कोई निर्णय लेना चाहते है तो आज का दिन अच्छा है। आज भाई के साथ किसी बात को लेकर विचार विमर्श करेंगे।

  • शुभ रंग- नीला
  • शुभ अंक- 5

वृश्चिक राशि-

आज का दिन बढ़िया रहने वाला है। व्यापार में रुकी हुई योजनाओं को शुरू करने से आपकी व्यस्तता बढ़ी रहेगी। आज आपकी कोई कार्य योजना सफल होगी। आपकी शादी की चल रही बात आज फाइनल हो जाएगी। वेब डिजाइनिंग के लोग जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैंं। बैंक में कार्यरत लोगों का उनके मन पसंद जगह ट्रांसफर हो सकता है।

  • शुभ रंग- पीला
  • शुभ अंक- 7

धनु राशि-

आज का दिन आपके लिए व्यस्तता से भरा रहने वाला है। छात्र-छात्राओं को अपने काम को कल पर नहीं टालना चाहिए, आपको जब भी खाली समय मिले अपने काम को पूरा कर ले। कुछ नए विषयों में आपकी रुचि बढ़ेगी , जिसमें गुरुजनों का साथ मिलेगा। मित्रों की सहायता से आपको आय के साधन मिलेंगे, जिनसे आप लाभ कमाने में कामयाब रहेंगे। आर्थिक स्थिति आपकी बेहतर रहेगी। कुल मिलाकर आज आपका दिन अच्छा रहने वाला है।

  • शुभ रंग- हरा
  • शुभ अंक- 1

मकर राशि-

आज का दिन आपके लिए ठीक रहने वाला है। आज बेवजह की उलझन से दूर होकर आप किसी धार्मिक स्थल पर अपना कुछ समय बिताएंगे। यात्रा पर भी जाने के योग बन रहे हैं, यात्रा आपके लिए सुखद रहेगी। पुराने मित्रों का सहयोग मिलेगा, साथ ही उनके साथ कुछ समय व्यतीत करेंगे, जिससे आपकी पुरानी यादें ताजा होंगी। लवमेट के लिएआज का दिन अच्छा रहने वाला है। छात्रों को सफलता मिलने के योग बने हुए हैं।

  • शुभ रंग- लाल
  • शुभ अंक- 6

कुंभ राशि-

आज का दिन आपके लिए अनुकूल रहने वाला है। आप किसी काम को लेकर उत्साहित होंगे, काम आसानी व समय से पूरा हो जायेगा। आपके आय के नए स्त्रोत बढ़ेंगे। कला और साहित्य के क्षेत्र में रुझान रहेगा। आज किसी कार्य में आपको अपने जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। आज आपका दांपत्य जीवन शानदार रहने वाला है। बच्चे आज खेल कूद में व्यस्त रहेंगे।

  • शुभ रंग- सफेद
  • शुभ अंक- 3

मीन राशि-

आज का दिन आपके लिए दिन बदलाव से भरा रहने वाला है। आज आपको पैतृक संपत्ति से लाभ मिलेगा। आज किसी धार्मिक समारोह में परिवार के साथ सम्मिलित होंगे। आज आपकी वाणी में मधुरता का भाव रहेगा। राजनीति में सफलता प्राप्त होगी, सभा को संबोधित करने का मौका मिलेगा। लोग आपसे जुड़ने की कोशिश करेंगे। व्यापार में रोज की अपेक्षा ज्यादा मुनाफा होगा।

  • शुभ रंग- पिच
  • शुभ अंक- 7

SHARE THIS
Continue Reading

आस्था

ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन ये 7 काम करने से दूर होगा चंद्र दोष, करियर में मिलेगी उन्नति, सुधरेगा स्वास्थ्य और होगा धन लाभ

Published

on

SHARE THIS

ज्येष्ठ पूर्णिमा को शुभ तिथियों में से एक माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी के पूजन से भक्तों को धन-वैभव की प्राप्ति होती है। साथ ही इस दिन आप कुछ कार्य करके कुंडली में स्थित चंद्र दोष को दूर कर सकते हैं। चंद्र दोष अगर कुंडली में हो तो आपको करियर के क्षेत्र में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है और सेहत पर भी इसका बुरा असर देखने को मिलता है।

चंद्र दोष का प्रभाव

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में चंद्र दोष है तो उसे मानसिक परेशानियां हो सकती हैं। ऐसे लोगों की सोचने समझने और निर्णय लेने की क्षमता अच्छी नहीं होती। इसी वजह से करियर-कारोबार में इनको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे लोग बेवजह भावुक हो सकते हैं और अक्सर तनाव की स्थिति इनके जीवन में बनी रहती है। सिर्फ यही नहीं चंद्र दोष होने की वजह से आपकी सेहत भी बार-बार खराब हो सकती है। जिन लोगों की कुंडली में चंद्र दोष होता है उन्हें दिल, फेफड़े से जुड़े रोग हो सकते हैं, इसके साथ ही मिर्गी और अवसाद भी ऐसे लोगों में देखने को मिलता है। वहीं चंद्र दोष की वजह से पारिवारिक जीवन में कल और आर्थिक हानि के दुर्योग भी बनते हैं। लेकिन अगर आप ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन कुछ विशेष कार्य करते हैं तो आपकी ये परेशानियां दूर हो सकती हैं। आइए अब जानते हैं कि क्या करने से चंद्र दोष से आपको मुक्ति मिलेगी।

ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन करें ये उपाय

  1. चंद्र दोष से पीड़ित लोगों को ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन किसी शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग का जलाभिषेक करना चाहिए और उसके बाद सफेद चीजों का दान करना चाहिए। भगवान शिव चंद्रमा के आराध्य हैं इसलिए पूर्णिमा के दिन शिव पूजन और चंद्रमा से जुड़ी सफेद चीजों का दान करने से चंद्र दोष दूर होता है।
  2. पूर्णिमा के दिन चंद्रमा के दर्शन करते हुए चंद्र ग्रह के मंत्र ‘ऊँ सों सोमाय नम:’ का 108 बार जप करना चाहिए। ऐसा करने से आपको मानसिक समस्याओं से निजात मिलती है और सेहत में भी अच्छे बदलाव आते हैं।
  3. ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन अगर आप गले में चंद्रमा के अर्ध आकार जैसा चांदी का लौकेट पहन लें तो इससे भी आपकी कई परेशानियां दूर हो सकती हैं। आप चांदी की चेन भी इस दिन गले में धारण कर सकते हैं।
  4. अगर आपको आर्थिक लाभ चाहिए और करियर में उन्नति चाहिए तो, ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन आपको एक चांदी की अंगूठी में मोती जड़वाकर पहनना चाहिए। धन लाभ के लिए यह उपाय बहुत कारगर माना जाता है।
  5. ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन अगर आप व्रत रखें और शाम के समय चंद्र दर्शन के समय एक पात्र में गंगाजल, सफेद चंदन, सफेद फूल मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य दें तो कुंडली में चंद्रमा की स्थिति मजबूत होती है और आपके कई बिगड़े काम भी बन जाते हैं।
  6. ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन अगर आप किसी जरूरतमंद को कच्चा दूध और चावल दान करते हैं तो इससे भी चंद्र दोष से आपको मुक्ति मिल सकती है। सफेद वस्त्रों का भी आप दान कर सकते हैं।
  7. पूर्णिमा तिथि के दिन पवित्र नदियों में स्नान करें और चंद्रमा के दर्शन करते हुए ‘ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चंद्राय नम:’ मंत्र का जप करें। यह कार्य करके आप चंद्रमा को मजबूत करते हैं, जिससे आपके जीवन की कई समस्याएं दूर हो जाती हैं।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending