Connect with us

देश-विदेश

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्विटर प्रोफाइल से हटाया कांग्रेस: कहा पार्टी छोड़ रहा हूं, लेकिन ज्वाइन नहीं करूंगा बीजेपी

Published

on

SHARE THIS

चंडीगढ़. पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस पार्टी को छोड़ने की घोषणा कर दी है. अमरिंदर सिंह के कार्यालय की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार उन्होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़ने की बात कही है. हालांकि अमरिंदर सिंह के कार्यालय की तरफ से यह भी सफाई दी गई है कि वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल नहीं होंगे. कांग्रेस छोड़ने को लेकर अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पार्टी का लगातार पतन हो रहा है और वरिष्ठ नेताओं को किनारे किया जा रहा है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के अंदर उनका अपमान किया गया है.
भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की संभावना को नकारते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि वे उस कांग्रेस पार्टी को छोड़ रहे हैं, जिसमें उनको अपमानित किया गया और भरोसा नहीं रखा गया. अमरिंदर सिंह ने कहा कि वे कांग्रेस से त्यागपत्र देंगे और पार्टी में नहीं रहेंगे. हालांकि अमरिंदर सिंह ने राजनीति नहीं छोड़ने की बात करते हुए कहा कि उनके लिए पंजाब की सुरक्षा सबसे अहम है तथा पंजाब के हितों को ध्यान में रखते हुए उनके विकल्प अभी खुले हैं.
अमरिंदर सिंह ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल के घर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हमले की निंदा करते हुए कहा कि सिब्बल पर इसलिए हमला हुआ क्योंकि उन्होंने कांग्रेस के लिए चिंता जताई थी और ऐसी बातें सामने रखी जो पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को पसंद नहीं हैं. अमरिंदर सिंह ने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी में वरिष्ठ नेताओं को किनारे किया जा रहा है और यह पार्टी के लिए अच्छा नहीं है.
कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर अपनी राय रखते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू सिर्फ भीड़ को इकट्ठा कर सकते हैं और सिद्धू नहीं जानते कि अपनी टीम को आगे कैसे लेकर जाना है. अमरिंदर सिंह ने कहा कि वे भी कई कांग्रेस प्रदेश अध्यक्षों के साथ काम कर चुके हैं और वे खुद भी अध्यक्ष रहे हैं, उन्होंने बताया कि जब भी पार्टी में मतभेद उठे हैं तो उन्हें आपसी सहमति से हल किया गया, सिद्धू की तरह नाटक करके नहीं.

SHARE THIS

देश-विदेश

मणिपुर में बोले अमित शाह, ’15 दिन में हो जाएगा हिंसा का राजनीतिक समाधान’

Published

on

SHARE THIS

इंफाल: मणिपुर दौरे के अपने अंतिम दिन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस शांतिप्रिय राज्य में हिंसा होना बेहद हु दुखद है। उन्होंने कहा कि हम कुछ दिनों में राज्य में शांति ले आएंगे। उन्होंने कहा कि अगले 15 दिनों में इस हालात का राजनीतिक समाधान निकाल लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि विगत 9 अप्रैल को मणिपुर हाईकोर्ट के एक जल्दबाजी भरे फैसले के कारण यहां पर जातीय हिंसा और दो ग्रुप के बीच में हिंसा की शुरुआत हुई थी। लेकिन हमारी सरकार इसका समाधान निकाल लेगी।

मणिपुर हो गया था हिंसा मुक्त- अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि पिछले 6 वर्षों से जब से मणिपुर में भाजपा की सरकार आई मणिपुर बंद, कर्फ्यू और हिंसा से मुक्त हो गया था। मणिपुर में डबल इंजन की सरकार ने विकास के सभी पैमानों में अभूतपूर्व सिद्धि हासिल की। पिछले 1 महीने में मणिपुर में हिंसक घटनाएं हुई हैं। जिन नागरिकों की हमल की हिंसा में मृत्यु हुई है उनके परिजनों के प्रति प्रधानमंत्री मोदी, मेरी तरफ से और भारत सरकार की तरफ से संवेदना व्यक्त करता हूं।

मृतकों के परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक मदद

अमित शाह ने कहा कि इस हिंसा में जिन भी लोगों की जान गई है उनके परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। इसमें से 5 लाख रुपए मणिपुर सरकार और 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता केंद्र सरकार की तरफ से दी जाएगी। यह राशि DBT के माध्यम से पीड़ितों को हस्तांतरित की जाएगी। इसके साथ ही घायलों की भी मदद की जाएगी। उन्होंने कहा कि मणिपुर में किसी जरुरी वस्तु की कमी और दिक्कत ना हो इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार मिलकर काम कर रही है।

गृह मंत्री ने कहा कि यहां के नागरिकों को हर तरह की मदद केंद्र और राज्य की सरकार मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि यहां हिंसा को अंजाम देने वालों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि जिस किसी के पास हथियार हों, वे पुलिस के सामने सरेंडर कर दें। कल से पुलिस कॉम्बिंग करेगी, अगर इस दौरान किसी के पास हथियार बरामद होते हिं तो उसके सतह सख्ती से पेश आया जाएगा। उन्होंने कहा नागरिक किसी भी तरह की अफवाह पर ध्यान ना दें और अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

बृजभूषण सिंह को गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही दिल्ली पुलिस? सूत्रों ने बताई सारी बात

Published

on

SHARE THIS

महिला पहलवानों के कथित यौन उत्पीड़न के विवाद के बीच लोगों के मन में यह सवाल पैदा हो रहा है कि आखिर दिल्ली पुलिस भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष और पूर्व सांसद बृजभूषण सिंह को गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही है? सूत्रों की मानें तो अभी तक दिल्ली पुलिस के पास इतने सबूत ही नहीं हैं कि वह बृजभूषण की तरफ गिरफ्तारी का हाथ बढ़ा सके। बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी के लिए दिल्ली पुलिस के पास अभी तक कोई पुख्ता सबूत नहीं है, जिस कारण कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे है।

दिल्ली पुलिस के सूत्र ने बताया कि पुलिस हर आरोपों कि गहनता से जांच कर रही है, चाहे कजाकिस्तान या रांची.. या जहां भी छेड़खानी के आरोप लगाए है, वहां जांच जारी है। जांच में अभी तक कोई फोटो, सीसीटीवी, विटनेस ऐसा नहीं मिला है। दिल्ली पुलिस बहुत जल्द अपनी जांच पूरी करेगी। सूत्र ने आगे जानकारी दी की जांच में ये तय हो जाएगा कि अगले 15 दिन में पुलिस चार्जशीट दाखिल करेगी या फिर एफआर यानी फाइनल रिपोर्ट। बता दें कि चार्जशीट का मतलब है कि केस में कुछ जान है, जांच की जरूरत है, फाइनल रिपोर्ट यानी एफआर का मतलब कि केस में कुछ नहीं मिला है। इस केस को बंद कवर दिया जाना चाहिए ये जांच के बाद तय हो जाएगा।

नाबालिग से जुड़े सवाल पर सूत्र ने कहा एक पहलवान नाबालिग है या नहीं, इसको लेकर जांच जारी है, इसमें जो भी डेवलपमेंट होगा पॉक्सो कोर्ट में बता दिया जाएगा। अगर जांच में आएगा कि डॉक्यूमेंट्स के साथ छेड़खानी की गई है या गलत उम्र बताई गई है तो फेडरेशन चाहे तो इसमें एक्शन लिया जा सकता है, अभी इसे लेकर डॉक्यूमेंट्स वेरिफाई किए जा रहे है। सूत्र ने आगे कहा कि पॉक्सो केस में भी कुछ जजमेंट है, जो केस रजिस्टर्ड है उसकी सजा 7 साल तक है, 7 साल तक कि सजा वाले केस में अगर कुछ सबूत मिलते भी है तो जजमेंट है। गिरफ्तारी की तुरंत जरूरत नहीं है।

इसके अलावा अभी जंतर मंतर पर संसद के उद्घाटन के दिन धारा 144 का उल्लंघन करने पर एफआईआर हुई है उसमें फिलहाल दिल्ली पुलिस का अभी खिलाड़ियों का बयान दर्ज करने का कोई प्लान नहीं है।

SHARE THIS
Continue Reading

क्राइम

महाराष्ट्र में 3 सिख नाबालिग बच्चों को भीड़ ने जमकर पीटा, 1 की मौत

Published

on

SHARE THIS

महाराष्ट्र के परभणी जिले से मॉब लिंचिंग का मामला सामने आया है। यहां के उखलाद गांव में भिड़ ने एक नाबालिग सिख बच्चे को चोर समझ कर मार डाला, जबकि दो सिख बच्चे को पुलिस ने बचा लिया। मॉब लिंचिंग की इस घटना में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दरअसल, महाराष्ट्र का परभणी में 27 मई में बकरी चोर समझ कर लोगों ने 3 सिख बच्चों की पिटाई कर डाली, जिसमें एक सिख बच्चे की मौत हो गई है।

6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

पुलिस ने इस मामले में कुल 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इसमें मुख्य आरोपी ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच अकरम पटेल को भी गिरफ्तार किया है। मॉब लिंचिंग की इस घटना को लेकर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अध्यक्ष हरजिंदर सिंह धामी ने कड़ी निंदा की है।

14 साल के नाबालिग की मौत

हरजिंदर सिंह धामी ने बताया कि मिली जानकारी के मुताबिक, इस घटना में 14 साल के नाबालिग कृपाल सिंह नाम के सिख युवक की मौत हो गई है, जबकि दो अन्य नाबालिग सिख युवक अवतार सिंह (16) और अरुण सिंह (15) गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

“पूरे सिख जगत में आक्रोश की लहर है”

उन्होंने कहा कि इस घटना से सिख मानस को गहरी ठेस पहुंची और पूरे सिख जगत में आक्रोश की लहर है। उन्होंने कहा कि यह जघन्य अपराध मानवता पर धब्बा है, जिसके दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस को सभी दोषियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें सख्त सजा दी जाए।

SHARE THIS
Continue Reading

Trending