Connect with us

खबरे छत्तीसगढ़

लोकतंत्र सेनानियों के त्याग और तपस्या को कभी भुलाया नहीं जा सकता: मुख्यमंत्री विष्णु देव साय

Published

on

SHARE THIS

 

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव सायमुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय

रायपुर, 26 जून 2024  : मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने कहा है कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए लोकतंत्र सेनानियों का त्याग-तपस्या और बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्हें सम्मान देने के लिए राज्य सरकार द्वारा सम्मान निधि देना फिर से शुरू कर दिया गया है और पिछले पांच वर्षाें की रोकी गई सम्मान निधि की राशि सेनानियों को एकमुश्त दी जा चुकी है। पिछली सरकार ने लोकतंत्र सेनानियों की सम्मान निधि को बंद कर दिया था।मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय आज अपने निवास कार्यालय में आपातकाल की 49वीं वर्षगांठ आपातकाल स्मृति दिवस पर आयोजित लोकतंत्र सेनानियों (मीसाबंदियों) के सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने लोकतंत्र सेनानी स्वर्गीय श्री बलीराम कश्यप और स्व. श्री नरहरि साय सहित अनेक सेनानियों का स्मरण करते हुए उन्हें नमन किया। कार्यक्रम में उन्होंने लोकतंत्र सेनानियों को शाल, श्रीफल देकर सम्मानित किया। इस मौके पर लोकतंत्र सेनानियों ने मुख्यमंत्री श्री साय को चांदी का मुकुट और गजमाला पहनाकर सम्मान निधि पुनः प्रारंभ करने और पिछले पांच वर्षाें की राशि देने के लिए उनका आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में लोकतंत्र सेनानियों को मुख्यमंत्री निवास में सपरिवार आमंत्रित किया गया।

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव सायमुख्यमंत्री श्री विष्णु देव सायकार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री श्री अरूण साव और श्री विजय शर्मा, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री केदार कश्यप, कृषि मंत्री श्री रामविचार नेताम, खाद्य मंत्री श्री दयालदास बघेल, उद्योग मंत्री श्री लखन लाल देवांगन, वित्त मंत्री श्री ओ.पी. चौधरी, विधायक श्री पुन्नूलाल मोहले, श्री धरमलाल कौशिक, मध्य क्षेत्र के क्षेत्र संघचालक डॉ. पूर्णेंदु सक्सेना, प्रांत संघचालक श्री टोपलाल वर्मा, लोकतंत्र सेनानी संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री सच्चिदानंद उपासने, प्रदेश अध्यक्ष श्री दिवाकर तिवारी, श्री रामप्रताप सिंह,  भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव सायमुख्यमंत्री ने कहा कि आपातकाल के दौरान लोकतंत्र को बचाने के लिए लोकतंत्र सेनानियों (मीसाबंदियों) ने काफी कष्ट उठाया, लोकतंत्र की रक्षा के लिए अपने परिवारों की परवाह न करते हुए जेल गए, जहां उनके साथ बर्बरता की गई, उनके परिवारजनों ने भी काफी कष्ट सहे। कई घरों में चूल्हा जलना मुश्किल हो गया था। जिन परिवारों में कमाने वाले जेल गए ऐसे कई परिवार बरबाद हो गए। देश में लोकतंत्र की रक्षा के लिए इन सेनानियों ने और उनके परिवारों ने अतुलनीय योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगा था, विपक्षी नेताओं को जेल में बंदकर दिया गया था। मीडिया का अधिकार छीन लिया गया था, लोगों को प्रताड़ित किया गया। इसी की याद में 25 जून को काला दिवस के रूप में मनाते हैं।

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव सायउप मुख्यमंत्री श्री अरूण साव ने कहा कि लोकतंत्र सेनानियों ने बड़े कष्ट सहे। जो जेल गए उन्होंने जेल में और उनके परिवारों ने जेल के बाहर यातनाएं सही। उनका त्याग बहुत बड़ा है। उप मुख्यमंत्री श्री विजय शर्मा ने कहा कि लोकतंत्र सेनानियों ने घर का अमन-चैन त्यागकर लोकतंत्र के लिए लड़ाई लड़ी। उनका यह अभियान वंदनीय है। मध्य क्षेत्र के क्षेत्र संघचालक डॉ. पूर्णेंदु सक्सेना ने कहा कि लोकतंत्र को बनाए रखने के लिए हमें लोकतंत्र सेनानियों के संघर्षाें को याद रखने की जरूरत है। हमारा यह दायित्व है कि एक पीढ़ी की कुर्बानी और संघर्ष की कहानी का क्रम अगली पीढ़ी तक बना रहे।लोकतंत्र सेनानी संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री सच्चिदानंद उपासने ने अपने सम्बोधन में आपातकाल के दौरान लोकतंत्र सेनानियों के संघर्षाें की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जब हम सड़कों पर निकलते थे, तो लोग मुंह फेर लेते थे। लोग बात करने से कतराते थे। उस काल की प्रताड़ना और कष्टों से कई परिवार बर्बाद हो गए। आज भी उनकी स्थिति नहीं सुधरी है। लोकतंत्र सेनानियों की भावी पीढ़ी को किसी न किसी रूप में संगठित कर अच्छे काम में लगाने के उद्देश्य से लोकतंत्र प्रहरी संगठन की कल्पना की गई है। कार्यक्रम में लोकतंत्र सेनानियों के साथ अधिवक्ता श्रीमती सुप्रिया उपासने दुबे को संघ की ओर से कानूनी लड़ाई लड़ने के लिए तथा श्री संतोष कुमार शर्मा को भी संगठन के कार्याें के लिए सम्मानित किया गया।

SHARE THIS

खबरे छत्तीसगढ़

कैबिनेट मंत्री टंक राम वर्मा ने कोसा, कॉटन व हाथकरघा वस्त्रों के भव्य प्रदर्शनी सह-विक्रय का किया शुभारंभ

Published

on

SHARE THIS

  रायपुर,17 जुलाई 2024 : मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ शासन ग्रामोद्योग विभाग हाथकरघा बलौदाबाजार-भाटापारा के सौजन्य से जिला मुख्यालय बलौदाबाजार में भव्य प्रदर्शनी सह-विक्रय का आयोजन किया जा रहा है। जिसका शुभारंभ कैबिनेट मंत्री टंक राम वर्मा ने किया। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष चितावर जायसवाल, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अशोक जैन सहित अन्य जनप्रतिनिधि बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।मंत्री श्री वर्मा ने आयोजन के लिए विभाग की प्रशंसा करते हुए कहा कि ऐसे आयोजन बीच-बीच में करते रहना चाहिए। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलता है। उन्होंने जिले के सभी लोगों से इस मेले का लाभ लेने और अधिक से अधिक उत्पादों का क्रय कर हाथकरघा को बढ़ावा देने की अपील की, ताकि लोग अधिक से अधिक सक्षम व आत्मनिर्भर हो सके और गाँधी जी के सपने को पूरा कर सके। उक्त मेले में छतीसगढ़ के सुप्रसिद्ध कोसा, कॉटन हथकरघा वस्त्रों का विशाल प्रदर्शनी होगा।

यह प्रदर्शनी बलौदाबाजार शहर के मध्य स्थित पं.बाल्मीकि शुक्ल विप्र वाटिका गॉर्डन चौक में लगाई गई है। यह प्रदर्शनी आज से 22 जुलाई तक प्रतिदिन सुबह 11 बजे से रात्रि 9 बजे तक खुला रहेगा। इस प्रदर्शनी के विशेष आर्कषक के रूप में महामहिम राष्ट्रपति जी के द्वारा सम्मानित छत्तीसगढ़ के कुशल बुनकरों द्वारा हाथों से निर्मित वस्त्रों का प्रर्दशन कर विक्रय किया जायेगा। इसके लिए 15 स्टॉलों को सजाया जा रहा है। इस मेले में उत्कृष्ट कलात्मक कोसा साड़िया, कोसा मलमल,कोसाड्रेस मटेरियल, कोसा सलवार सूट,कोसा बाफ्ता,सूती साड़िया शर्टिंग, बेड शीट, पिलो कवर, टॉवेल नेपकिन गमछा इत्यादि एक ही जगह मिल जायेगा। जिला हथकरघा के सहायक संचालक श्री बी आर शेन्द्रे ने बताया कि वस्त्रों आदि सभी उत्पादों की खरीदी में लोगों को 20 प्रतिशत का विशेष छूट दिया जायेगा।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे छत्तीसगढ़

बाढ का कहर :  देखते ही देखते सोन्ढूर नदी मे डूब गई राशन ले कर आ रही ट्रेक्टर

Published

on

SHARE THIS

संवाददाता अमनपथ राजूनाथ जोगी नगरी  : ग्राम धोबनडीही मे राशन सामान ले कर आ रहा ट्रेक्टर नदी मे डूब गया जहा ड्रायवर ने उफनती नदी से भागकर अपनी जान बचाई वनाचल क्षेत्र मे बारिश का चौमासा आम ग्रामीणो व छात्र छात्राओ के लिये किसी आफत से कम नही
उल्लेखनिय है की टायगर रिजर्व फारेस्ट क्षेत्र मे बसे आम ग्रामीणो को आज मूलभूत सुविधाओ से वंचित रखा गया है जहा ग्रामीणो के पास नदी नालो मे पूल सडक , बिजली , स्वास्थ्य व शिक्षा के लिये जद्दोजेहद करना पडता है ग्रामीणो द्वारा बार बार शासन प्रशासन से आवेदन निवेदन धरना प्रदर्शन कर भी क्षेत्र मे सुविधा दिलाने की माग की जा रही जहा हमेशा इन्हे मायूसी ही हाथ लगती है बारिश का सीजन लगते ही वनाचल क्षेत्र के ग्रामीणो का ब्लाक मुख्यालय से संपर्क टूट जाता है व इन्हे मूलभूत सुविधा भी नही।मिल पाती , ठीक ऐसा ही मामला धमतरी जिले के सीमावर्ती गरियाबंद जिले के मैनपुर ब्लाक के ग्राम पंचायत गराहडीही के आश्रित ग्राम धोबन डीही मे देखने को मिला जहा किसान खेतो मे खाद व दवाई छिड़काव कर वापसी मे राशन सामान ले कर आ रहा था जहा सोन्ढूर नदी मे अचानक बाढ आने से ड्रायवर ने नदी से भागकर अपनी जान बचाई और देखते ही देखते बाढ इतनी बढ की ट्रेक्टर नदी मे ही डूब गया

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे छत्तीसगढ़

एमसीबी जिले के कुल 57 श्रद्धालु जाएंगे श्रीराम लला के दर्शन के लिए अयोध्या धाम

Published

on

SHARE THIS

 

एमसीबी :  छत्तीसगढ़ राज्य शासन द्वारा जिले के स्थानीय निवासियों को अयोध्या धाम यात्रा की सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से लागू की गई है। श्री रामलला दर्शन (अयोध्या धाम) यात्रा योजना 2024 के तहत दूसरे चरण में जिले से 57 श्रद्धालु अयोध्या धाम जाएंगे। 17 जुलाई को यह विशेष ट्रेन अंबिकापुर रेलवे स्टेशन से अयोध्या धाम के लिए प्रस्थान करेगी। जिसमें नगर पालिक निगम चिरमिरी से 3, नगर पालिका परिषद मनेन्द्रगढ़ से 6, नगर पंचायत खोगापानी से 5, जनपद पंचायत मनेन्द्रगढ़ से 4, जनपद पंचायत खड़गवा से 17, जनपद पंचायत भरतपुर से 20 तथा 2 अनुरक्षक मिलाकर एमसीबी जिले से कुल 57 दर्शानार्थियों का योजना के अन्तर्गत अयोध्या धाम के लिए चयन किया गया। सहायक नोडल अधिकारी ने जानकारी दी कि यात्रा से पहले सभी श्रद्धालुओं का प्राथमिक स्वास्थ्य जांच की गई है। श्रद्धालुओं का दल 17 जुलाई 2024 को कार्यालय कलेक्टर परिसर से अम्बिकापुर रेल्वे स्टेशन के लिए प्रातः 07ः00 बजे प्रस्थान करेंगें।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending