Connect with us

देश-विदेश

*कोरोना वायरस का आईपीएल 2020 मैच पर लगा ग्रहण , दिल्ली सरकार ने लगाया मैचों पर प्रतिबंध*

Published

on

SHARE THIS

दिल्ली । कोरोना का कहर आखिरकार आईपीएल 2020 पर गिर ही गया. दिल्ली सरकार ने दिल्ली में होने वाले आईपीएल के मैचों पर रद्द कर दिया है. इस बात की घोषणा दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने की ।मनीष सिसोदिया ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि आईपीएल जैसे सभी खेल गतिविधि, सेमिनार, कांफ्रेस, जिसमें लोगों के जुटने की संभावना है, उस पर आगामी आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया गया है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है, और हमने सामाजिक दूरी रखने का फैसला लिया है. आईपीएल एक बड़ा इवेंट है, जिसमें बहुत सी जगहों से लोग आते हैं. इस लिहाज से उस पर रोक लगाई गई है.उन्होंने कहा कि यदि बीसीसीआई अगर टूर्नामेंट किसी दूसरे फार्मेट में आयोजित करना चाहता है, तो यह उस पर निर्भर है. हमारा उद्देश्य लोगों के जमावड़े को नियंत्रित करना है. इसे हम लगभग एक महीने तक जारी रखेंगे.

दिल्ली सरकार के इस फैसले से बीसीसीआई के आईपीएल के आयोजन को लेकर उहापोह और बढ़ गई है. इसके पहले खाली स्टेडियम में मैच आयोजित करने की बात होती रही है, लेकिन अब मैच पर प्रतिबंध लगने और विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता नहीं होने से बीसीसीआई को आईपीएल 2020 को स्थगित करने के लिए गंभीर रूप से विचार करना पड़ेगा।

SHARE THIS

देश-विदेश

चुनाव आयोग का कड़ा निर्देश,जाति, धर्म और भाषा के आधार पर वोट मांगने पर होगी कार्रवाई

Published

on

SHARE THIS

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान अब जल्द ही होने की संभावना है। इससे पहले शुक्रवार को निर्वाचन आयोग ने आचार संहिता लागू होने से पहले ही देश के तमाम राजनीतिक दलों के लिए सख्त निर्देश जारी किए हैं। चुनाव आयोग ने जाति, धर्म और भाषा के नाम पर और अन्य कई तरीकों से वोट न मांगे जाने की हिदायत दी है। आयोग ने ये भी कहा है कि आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले उम्मीदवारों और स्टार प्रचारकों के खिलाफ ‘नैतिक भर्त्सना’ के बजाय कठोर कार्रवाई की जाएगी। आइए जानते हैं आयोग ने और कैन-कौन से निर्देश जारी किए हैं।

पूजा स्थल से चुनाव प्रचार की अनुमति नहीं

चुनाव आयोग ने नेताओं से कहा है कि वे जाति, धर्म और भाषा के आधार पर वोट मांगने से परहेज करें तथा भक्त एवं भगवान के बीच के संबंधों का उपहास नहीं उड़ाएं अथवा दैवीय प्रकोप का हवाला नहीं दें। आयोग ने यह भी कहा कि मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर, गुरुद्वारे या कोई अन्य पूजा स्थल का उपयोग चुनाव प्रचार के लिए नहीं किया जाना चाहिए। आयोग ने ये भी कहा है कि जिन स्टार प्रचारकों और उम्मीदवारों को पहले नोटिस मिला है, उन्हें आदर्श आचार संहिता के बार-बार उल्लंघन के लिए कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

स्टार प्रचारकों एवं उम्मीदवारों को कड़े निर्देश

चुनाव आयोग ने विभिन्न राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को चुनाव प्रचार के दौरान शिष्टाचार बनाए रखने को कहा है। साथ ही स्टार प्रचारकों एवं उम्मीदवारों खासकर उन लोगों पर अतिरिक्त जिम्मेदारी की चेतावनी दी है जिन्हें पहले भी नोटिस जारी किए गए थे। आयोग ने कहा है कि राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को तथ्यात्मक आधार के बिना बयान नहीं देना चाहिए या मतदाताओं को गुमराह नहीं करना चाहिए।

सोशल मीडिया पर भी नजर

निर्वाचन आयोग ने अपने निर्देशों में सोशल मीडिया पर होने वाली गतिविधियों को भी शामिल किया गया है। आयोग ने अपने निर्देश में कहा है कि सोशल मीडिया पर प्रतिद्वंद्वियों को बदनाम करने वाले या उनका अपमान करनी वाली पोस्ट तथा गरिमा पर चोट करने वाली पोस्ट नहीं किए जाने चाहिए या ऐसी सामाग्री साझा नहीं की जानी चाहिए।

 

 

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

सुप्रीम कोर्ट से आसाराम को नहीं मिली राहत, सजा माफ करने की याचिका खारिज

Published

on

SHARE THIS

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने रेप के मामले में सजा काट रहे स्वयंभू बाबा आसाराम की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया है। जान्कारी के मुताबिक आसाराम ने स्वास्थ्य के आधार पर सजा निलंबित करने का सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। वहीं आसाराम को पुलिस हिरासत में महाराष्ट्र के अस्पताल में इलाज कराने के लिए राजस्थान हाईकोर्ट का रुख करने के लिए कहा है।

राजस्थान हाईकोर्ट में अर्जी दें

आसाराम ने खराब सेहत का हवाला देकर सुप्रीम कोर्ट से राहत मांगी थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत से मिली उम्रकैद की सजा के खिलाफ आसाराम की याचिका पर राजस्थान हाईकोर्ट तेजी से सुनवाई करे। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि इलाज को लेकर राहत के लिए वे राजस्थान हाईकोर्ट में अर्जी दें।

आसाराम कई गंभीर बीमारियों से पीड़ित

इससे पहले सितंबर 2023 में भी सुप्रीम कोर्ट ने आसाराम को जमानत देने से इनकार कर दिया था। राजस्थान हाईकोर्ट से जमानत की अर्जी खारिज होने के बाद आसाराम के वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी। राजस्थान हाईकोरट ने वर्ष 2022 में आसाराम को जमानत देने से इनकार कर दिया था। आसाराम की उम्र करीब 81 साल हो गई है और वह कई गंभीर बीमारियों से पीड़ित है।

रेप के मामले में हुई उम्रकैद की सजा

आसाराम 2013 में राजस्थान स्थित अपने आश्रम में एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के अन्य मामले में वर्तमान में जोधपुर जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। अहमदाबाद के पास मोटेरा स्थित अपने आश्रम में 2001 से 2007 तक सूरत की रहने वाली एक शिष्या से कई बार बलात्कार करने के मामले में गांधीनगर की अदालत ने आसाराम को सजा सुनाई है।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

महादेव बेटिंग ऐप मामले में 17 ठिकानों पर ED की छापेमारी, अबतक 1200 करोड़ से अधिक की संपत्ति जब्त

Published

on

SHARE THIS

मुंबई: महादेव ऑनलाइन बुक बेटिंग एप मामले की जांच के दौरान ED ने कोलकाता, गुरुग्राम, दिल्ली, इंदौर, मुंबई और रायपुर में स्थित 17 ठिकानों पर सर्च ऑपरेशन चलाया है। सूत्रों ने बताया की इस सर्च ऑपरेशन के दौरान 1.86 करोड़ रुपये कैश, 1.78 करोड़ रुपये के मूल्यवान वस्त्र आज बरामद किए गए हैं। इसके साथ ही 580.78 करोड़ रुपये के प्रोसिड्स ऑफ क्राइम को फ्रीज किया गया है। इस सर्च ऑपरेशन में ED को बहुत से इंक्रिमिनेटिंग एविडेंट मिले हैं जिसमे डिजिटल डेटा बड़ी मात्रा में हैं और ED ने कई एसेस्ट्स की भी पहचान की है।

दुबई से किया जा रहा था ऑपरेट

बता दें कि छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा दर्ज FIR के आधार पर ईडी ने जांच शुरू की थी। इसके बाद विशाखापत्तनम पुलिस और अन्य राज्यों द्वारा दर्ज FIRs को भी रिकॉर्ड पर लिया गया था। ईडी की जांच में पता चला कि ‘महादेव ऑनलाइन बुक’ को दुबई से ऑपरेट किया जा रहा है और यह उनके परिचित साथियों को “पैनल/शाखाएं” की फ्रांचाइज देकर चलाते हैं, जिसमें उन्हें 70%-30% लाभ अनुपात पर काम कराया जाता है। जांच में यह भी पता चला कि ‘महादेव ऑनलाइन बुक’ के प्रमोटर अन्य ऑनलाइन बेटिंग बुक जैसे “रेड्डी अन्ना”, “फेयरप्ले” में भी प्रमोटर हैं। यही नहीं आरोपी बड़े पैमाने पर हवाला ऑपरेशन कर रहे हैं ताकि बेटिंग में मिले पैसों को ऑफ-शोर खातों में ले जाया जा सके।

अवैध बेवसाइट से हो रहा था काम

जांच के दौरान ED ने ‘महादेव ऑनलाइन बुक’ के प्रमोटरों के साथ शामिल अन्य महत्वपूर्ण प्लेयर को चिन्हित किया है। जांच के दौरान ED को पता चला कि कोलकाता का रहने वाला हरी शंकर तिब्रेवाल, जो वर्तमान में दुबई में रहता है एक बड़ा हवाला ऑपरेटर है और ‘महादेव ऑनलाइन बुक’ के प्रमोटर का पार्टनर है। ED ने उसके और उसके साथियों के ठिकानों पर सर्च किया और सर्च के दौरान पाया कि हरी शंकर तिब्रेवाल एक अवैध बेटिंग वेबसाइट “skyexchange” ऑपरेट करता है। वो अपने दुबई स्थित एंटिटीस के माध्यम से भारतीय स्टॉक मार्केट में बेटिंग से मिले पैसों को फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टमेंट (FPI) रूट से निवेश कर रहा है।

करोड़ों की संपत्ति को किया गया फ्रीज

जांच में यह भी सामने आया है कि आरोपी ने अपने साथियों को कई कंपनियों में डायरेक्टर के रूप में अपॉइंट किया है। जिनमें बेटिंग से कमाए पैसों को स्टॉक मार्केट में निवेश करने के लिए लेयर के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। सूत्रों ने यह भी बताया कि तिब्रेवाल बड़े पैमाने पर हवाला ऑपरेशन में भी शामिल था। इसी वजह से ED ने 580.78 करोड़ रुपये की सिक्योरिटी होल्डिंग जो की तिब्रेवाल की एंटिटीस की थी उसे फ्रीज कर दिया। बता दें कि इससे पहले इस मामले में ईडी ने सर्च के दौरान 572.41 करोड़ रुपये के आवासीय संपत्तियों को जब्त/जमा किया था। दो प्राविष्टिक संलग्नता आदेश जारी किए गए हैं, जिसमें 142.86 करोड़ रुपये की आवासीय और गैर-आवासीय संपत्तियों को संलग्न किया गया है। इस प्रकार, मामले में कुल 1296.05 करोड़ रुपये की संपत्ति ED ने फ्रीज की है।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending