Connect with us

हेल्दी लाइफ

*क्यों होता है हेयर लॉस, क्या है इसकी वजह, जरूर जानिए*

Published

on

SHARE THIS

बाल झड़ने की समस्या के बारे में तो आप जानते ही होंगे, लेकिन कई लोग बाल झड़ने यानी कि हेयर फॉल और हेयर लॉस को एक ही समझने की गलती कर देते हैं। कई बार बाल झड़ना काफी हद तक सामान्य प्रक्रिया होती है। माना जाता है कि अधिकांश लोगों के हर रोज करीब 100 बाल टूटते हैं, लेकिन अगर इससे ज्यादा टूटते हो तो उसके कई अन्य कारण हो सकते हैं, जिसे बाल झड़ना व हेयर फॉल कहेंगे। वहीं हेयर लॉस इससे अलग होता है, जिसमें बाल जड़ से गिर जाते है और दोबारा नहीं ऊगतें।

आइए, जानते हैं कि हेयर लॉस किन कारणों से होता है –

1 कई बार हेयर लॉस आनुवांशिक कारणों की वजह से हो सकता है।

2 गलत हेयरस्टाइल व बालों का गलत रखरखाव भी इसकी वजहों में से है। कई बार बालों को रबर बैंड से कसकर बांधंने व हाई पोनी टेल नियमित बनाने से भी हेयर लॉस की समस्या हो सकती है।

3 इसके अलावा डाई, ब्लीच, स्ट्रेटनर्स या परमानेंट वेव सॉल्यूशन के इस्तेमाल से भी बाल परमानेंट झड़ना शुरू हो सकते है।

4 महिलाओं में हेयर लॉस की समस्या बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने, प्रेग्नेंसी, डिलिवरी के बाद व मेनोपॉज आदि स्थितियों में जहां हार्मोन में बदलाव आते हैं, उस वजह से भी होता है।

5 कई बार किसी गंभीर बीमारी व सर्जरी के दौरान होने वाले तनाव से भी कुछ समय के लिए बालों के उगने की प्रक्रिया रुक सकती है। इसके अलावा थॉयराइट डिसऑर्डर, सिफलिस, आयरन की कमी या इन्फेक्शन की वजह से भी हेयर लॉस हो सकता हैं।

6 कीमियोथेरेपी व कई बार कुछ दवाइयों के साइड इफेक्ट की वजह से भी हेयर लॉस शुरू हो सकता है।

7 ऊपर बताए कारणों के अलावा शरीर में पोषक तत्वों की कमी से भी बाल झड़ सकते हैं व हेयर लॉस भी हो सकता है।

SHARE THIS

सेहत

जानें कितना होना चाहिए शुगर का लेवल? देखें चार्ट और इन तीन घरेलू नुस्खों से करें बचाव

Published

on

SHARE THIS

इस समय में देश-दुनिया में डायबिटीज के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से फैल रही है। लोग इस बीमारी से करोड़ों की तादाद में जूझ रहे हैं। डायबिटीज के मरीजों का ब्लड शुगर बढ़ जाता है जिसे जिंदगी भर कंट्रोल करना पड़ता है। दरअसल, यह बीमारी पूरी तरह से खत्म नहीं होती है इसे सिर्फ कंट्रोल किया जा सकता है। WHO के मुताबिक भारत में 63% मौत के पीछे लाइफ स्टाइल डिजीज है और उसमें भी डायबिटीज सबसे ऊपर है। दरअसल, डायबिटीज कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह कई बीमारियों की जड़ है जो आपके बॉडी के सभी इंटरनल ऑर्गन के फंक्शन को डिस्टर्ब करती है। जो लोग लंबे वक्त से थायराइ, शुगर और बीपी जैसी लाइफ स्टाइल बीमारी की गिरफ्त में उनके लिए यह एक स्लो प्वॉइजन की तरह है। आपको बता दें डायबिटीज किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। हालांकि, इस बीमारी की शुरुआत बहुत धीरे-धीरे होती है इस वजह से शुरुआत में लोग इसकी पहचान नहीं कर पाते और एक दिन अचानक इसकी चपेट में आ जाते हैं। इसलिए आज हम आपको चार्ट के ज़रिए बताएंगे कि शरीर में नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल कितना होता है और इसे घरेलू नुस्खों से कैसे कंट्रोल किया जा सकता है?

चार्ट से समझें शुगर का लेवल

  • सामान्य शुगर लेवल: खाने से पहले- 100 से कम, खाने के बाद- 140 से कम
  • प्री-डायबिटीज: खाने से पहले – 100-125 mg/dl, खाने के बाद – 140-199 mg/dl
  • डायबिटीज: खाने से पहले – 125 से ज्यादा mg/dl, खाने के बाद – 200 से ज्यादा mg/dl

तीन घरेलू नुस्खों से करें बचाव

डायबिटीज पेशेंट को अपने खानपान का बेहद ख्याल रखना चाहिए। दरअसल, ब्लड शुगर लेवल के मरीजों के लिए खानपान सबसे अहम है। अगर इसके मरीजों ने खाने-पीने में थोड़ी सी भी कोताही बरती तो वो शरीर के दूसरे अंगबुरी तरह प्रभावित होते हैं। सुबह के नाश्ता से लेकर रात के डिनर तक आपको क्या खाना है इसमें आपको ज़रा भी लपरवाही नहीं बरतनी चाहिए। इसके अलाव इसे कंट्रोल करने के लिए आप ये तीन नुस्खें ज़रूर आज़माएँ।

  • रोज 1 चम्मच मेथी खाएं: डायबिटीज के मरीजों मेथी एक सेवन करें। इसमें मौजूद फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट ब्लड में शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है। डायबिटीज से पीड़ित लोग सुबह के समय रोज 1 चम्मच मेथी खाएं:
  • लहसुन की 2 कली खाएं: डायबिटीज के मरीज रोज़ान सुबह कच्चे लहसुन का सेवन करें तो उनका शुगर लेवल कंट्रोल में होगा। लहसुन में मौजूद एलिसिन कंपाउंड शुगर को कंट्रोल करने में कारगर है।
  • करेला लौकी खाएं: अगर आपको डायबिटीज को कंट्रोल करना है तो सुबह के समय आप करेला और लौकी की सबजी का सेवन करें।

SHARE THIS
Continue Reading

सेहत

नारियल पानी ही नहीं उसकी मलाई भी है सेहत के लिए फायदेमंद, जानें किन परेशानियों में है लाभकारी?

Published

on

SHARE THIS

नारियल के पानी को गुणों की खान कहा जाता है। इसका पानी स्वाद में जितना लजवाब लगता है उतना ही रिफ्रेशिंग ड्रिंक माना जाता है। नारियल का पानी पीने से आपको तुरंत एनर्जी मिलती है।  इसके साथ ही इसका सेवन करने से आपकी सेहत को कई फायदे भी होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं सिर्फ नारियल का पानी ही नहीं बल्कि उसके अंदर की मलाई भी आपकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी है। नारियल की मलाई में विटामिन सी, ई, पोटेशिय, मैग्नीशियम, आयरन और फास्फोरस जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो आपके शरीर की बेहतरीन सेहत के लिए बेहद ज़रूरी हैं। चलिए जानते हैं नारियल की मलाई खाने से सेहत को क्या-क्या फायदे होते हैं।

इन परेशानियों में कारगर है नारियल पानी:-

  • गुड कोलेस्ट्रॉल से भरपूर: नारियल की मलाई आपके दिल की सेहत के लिए बेहद लाभकारी है। इसमें गुड कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इससे दिल की सेहत बेहतर होती है।
  • डाइजेशन करता है दुरुस्त: अगर आपका हाज़मा बिगड़ा रहता है और डाइजेशन सही नहीं रहता है तो नारियल की मलाई आपके लिए फायदेमंद है। इसकी मलाई में फाइबर काफी मात्रा में पाया जाता है जो डाइजेशन के लिए लाभकारी होता है।
  • प्रेग्नेंट महिला के लिए लाभकारी: नारियल की मलाई में मौजूद फाइबर, पोटैशियम, आयरन और हेल्दी फैट प्रेग्नेंट महिला को पोषण प्रदान करता है। नारियल मलाई के सेवन से प्रेग्नेंट महिला को मॉर्निंग सिकनेस की समस्या से राहत मिलती है।
  •  मिलती है तुरंत एनर्जी: नारियल की मलाई को एनर्जी का पावरहाउस कहा जाता है। इसका सेवन करने से शरीर को तुरंत ऊर्जा मिलती है और आप थका हुआ या कमजोर नहीं महसूस करते हैं।
  • इम्यूनिटी होती है बूस्ट: कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों के लिए नारियल की मलाई बेहद असरदार है। इसमें प्रचुर मात्रा में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करते हैं।
  • वजन करे कम: नारियल की मलाई का सेवन करने से मोटापा कम होता है। नारियल की मलाई में फैट की मात्रा ज्यादा होती है लेकिन इसमें हेल्दी फैट होता है साथ ही मौजूद पोषक तत्व लंबे वक्त तक आपका पेट भरा रखते हैं जिससे कि आपको भूख भी जल्दी नहीं लगती और वजन कम होने लगता है।

SHARE THIS
Continue Reading

सेहत

नाश्ते से लेकर डिनर तक, नवरात्रि में चौथे, पांचवें और छठे दिन का डाइट प्लान, वजन हो जाएगा कम

Published

on

SHARE THIS

फास्टिंग यानि व्रत वजन घटाने का सबसे असरदार तरीका है। नवरात्रि में कुछ लोग वजन घटाने के लिए भी उपवास करते हैं। वैसे मौसम बदलने के साथ ही नवरात्रि के व्रत बॉडी को डिटॉक्स करने में मदद करते हैं। हां इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है आपकी सही डाइट। अगर व्रत में हेल्दी डाइट को फॉलो किया जाए तो इससे कई किलो वजन कम हो सकता है। इसके साथ ही शरीर में जमा विषाक्त पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं और पूरा सिस्टम क्लीन हो जाता है। हम आपको डाइटिशियन की मदद से पूरे 9 दिन का हेल्दी डाइट प्लान बता रहे हैं। जिससे आपके शरीर को व्रत का असली फायदा मिल पाएगा। न्यूट्रीशियन, वेट लॉस कोच और कीटो डाइटिशियन डॉक्टर स्वाति सिंह से जानिए आपको नवरात्रि के व्रत में चौथे, पांचवें और छठे दिन क्या खाना चाहिए?

नवरात्रि का चौथा दिन

सुबह- सबसे पहले आप 1 गिलास गुनगुने पानी में 1 चम्मच शहद डालकर पी लें।

नाश्ता- ब्रेकफास्ट में सारे ड्राई फ्रूट्स को मिक्स करके करीब 1 मुट्ठी नट्स का सेवन करें।
दोपहर का खाना- एक बड़ी प्लेट भरकर सलाद और उबले आलू की ग्रेवी वाली सब्जी।
शाम- स्नैक्स के रूप में आप 1 गिलास मट्ठा पी सकते हैं।
रात का खाना- डिनर में 1 बाउल भरकर उबले आलू किसी भी तरह से खा सकते हैं।

नवरात्रि का पांचवां दिन

सुबह- शहद और गर्म पानी या फिर 200 ग्राम पनीर खाएं।
नाश्ता- 1 गिलास लो फैट दूध और 1 मुट्ठी मिक्स ड्राई फ्रूट्स।
दोपहर का खाना- पनीर हल्का नमक और रोस्ट किया हुआ, साथ में 1 गिलास छाछ।
शाम- स्नैक्स में 1 कप दूध वाली चाय या ग्रीन टी
रात का खाना- रात में 1 गिलास लो फैट दूध पी सकते हैं।

नवरात्रि का छठा दिन

सुबह- सुबह सबसे पहले शहद और गर्म पानी पी लें।
नाश्ता- 1 मुट्ठी मिक्स ड्राई फ्रूट्स, 1 बाउट टमाटर या टमाटर का जूस।
दोपहर का खाना- टमाटर की सब्जी और व्रत वाले चावल खाएं।
शाम- स्नैक्स में दूध वाली चाय या ग्रीन टी पी लें।
रात का खाना- रात में 1 बाउल टमाटर का सूप पी लें।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending