Connect with us

देश-विदेश

दिल्ली शराब घोटाला केस: CM केजरीवाल की अर्जी पर सुनवाई पूरी, HC ने सुरक्षित रखा फैसला

Published

on

SHARE THIS

दिल्ली शराब घोटाला मामले में फंसे सीएम अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और न्यायिक हिरासत के खिलाफ दी गई अर्जी पर बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई। इस मामले की सुनवाई पूरी कर ली गई है और जस्टिस स्वर्णकांता शर्मा ने आदेश सुरक्षित रख लिया है। संभवतः कल यानी गुरुवार को इसका फैसला सुनाया जा सकता है। आज कोर्ट में जहां ईडी की तरफ से एएसजी राजू ने अपनी दलील दी तो वहीं अरविंद केजरीवाल की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी ने इसका जवाब दिया।

सिंघवी ने कहा कि ईडी ने यह नहीं बताया कि मेरी याचिका क्या है। यह धारा 19 पीएमएलए के तहत अवैध गिरफ्तारी को चुनौती का मामला है। गलत तरीके से तथ्य पेश करके मेरी याचिका को आधारहीन बनाना चाहते हैं। इसपर एएसजी राजू ने कहा कि कल अगर हमें लगेगा कि इसके लिए अन्य लोग भी जिम्मेदार हैं, तो हम उनपर भी कार्रवाई करेंगे।

जानिए आज कोर्ट में क्या-क्या हुआ?

ASG राजू ने कहा- जब ऐसे प्रभावशाली लोग अपराध मे शामिल हों तो उनके खिलाफ सबूत जुटाना मुश्किल है, इसलिए कानून यह है कि जब ऐसे लोग शामिल हों तो सरकारी गवाहों पर भरोसा किया जा सकता है। संजय सिंह के मामले में हाईकोर्ट का आदेश अभी भी कायम है, जो उनकी अवैध गिरफ्तारी को लेकर दाखिल किया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं किया है। संजय सिंह को केवल मेरे द्वारा दी गई रियायत के आधार पर जमानत पर रिहा किया गया है।

ईडी का जवाब सिंघवी ने दिया। कहा कि कोर्ट ने ईडी से पूछा इस मामले में मनी ट्रेल को लेकर आपके पास क्या सबूत है। ईडी हमारे पास हवाला आपरेटर के बयान भी है, हमारे पास व्हाट्सएप चैट है। हमारे पास पर्याप्त सबूत है। कोर्ट ने कहा कि हम फाइल देखना चाहते हैं। ईडी ने कहा कि हम आपको जिस-जिस मामले की जानकारी आप चाहती हैं वह सारे सबूत प्रोवाइड करेंगे।

ASG राजू ने कहा -हमने पाया है कि गोवा में AAP के चुनाव प्रचार के लिए रिश्वत का इस्तेमाल किया गया था। इसलिए आम आदमी पार्टी लाभार्थी है क्योंकि उसने पैसे का इस्तेमाल किया। यह तथ्य स्पष्ट है।

ASG राजू- इस मामले में बड़ी संख्या में आरोपियों को जमानत न मिलने के कारण यही है कि उन्हे प्रथमदृष्टया मनी लॉन्ड्रिंग के अपराध का दोषी पाया गया है

ASG राजू- इसमें कोई विवाद नहीं है कि केजरीवाल को गिरफ्तारी के 24 घंटे के भीतर अदालत में पेश किया गया था और उन्हें सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर गिरफ्तारी के आधार भी बताए गए थे।गिरफ्तारी की सूचना उनकी पत्नी को भी दी गई थी।

राजू- मनी लॉन्ड्रिंग हुई है, कोर्ट ने संज्ञान भी लिया है, आरोपियों ने स्वीकार भी किया है.. लेकिन कुछ लोगों के बयानों के कुछ हिस्सों को आधार बनाकर केजरीवाल अपने बचाव की  कोशिश कर रहे हैं।

ईडी का कहना है कि केजरीवाल के मामले में जांच अभी शुरुआती चरण में है लेकिन इस तरह से तर्क दिए जा रहे हैं जैसे जांच पूरी हो गई हो और आरोपपत्र दाखिल हो गया हो।

ASG ने कहा: विजय नायर, कैलाश गहलोत के दफ़्तर से काम कर रहा था। गहलौत का घर/दफ़्तर सीएम के घर के ठीक बगल में था, इसलिए वह आसानी से उस घर में जा सकते था।

एएसजी राजू-जिन लोगों ने रिश्वत नहीं दी, उनसे लाइसेंस सरेंडर करने को कहा गया, ताकि रिश्वत देने वालों को सुविधा दी जा सके।

ASG राजू-  इंडोस्पिरिट्स को ब्लैकलिस्ट किया गया था। इसलिए उसे लाइसेंस दिलाने के लिए फाइलें आगे बढ़ाई गईं। कार्टेलाइजेशन के आरोपों के बावजूद फर्म को थोक लाइसेंस दिया गया। शिकायतकर्ता को शिकायत वापस लेने के लिए मजबूर किया गया।

राजू- ये कहते है कि पैसा नहीं मिला ये कैसी दलील है पैसा तो गोवा चुनाव में खर्च किया गया..ये कहते है कि अगर मैने कुछ किया तो मेरे घर से कुछ नहीं मिला लेकिन आपने तो किसी और को दे दिया तो कहां से मिलेगा आपके घर से।

राजू- यह दलील बेतुकी है कि मेरे पास पैसा ज़ब्त नहीं मिला। अगर आपने किसी और को दे दिया हो तो आपके घर पर कहां से मिलेगा? गोवा में खर्च दिया हो, विदेश भेज दिया हो, कहां से मिलेगा? लेकिन क्या इससे बेगुनाही हो गई आपकी। मनी लॉन्ड्रिंग का प्राथमिक सबूत काफी है। हमारे पास पर्याप्त सबूत हैं

ASG राजू –  ये सब चुनाव से बहुत पहले की बात है। अब वे कह रहे हैं कि चुनाव होने वाले हैं। शराब नीति में हेराफेरी करके मुनाफा कमाया गया और रिश्वत ली गई, यह बात बहुत पहले की है। चुनाव की बात सिर्फ़ दिखावे के लिए किया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि ईडी अभी सक्रिय हुई है।

राजू- अगर लाश न मिले तो क्या कत्ल का मुकदमा नहीं चलता? कई ऐसे मामलों में लोगों को सज़ा मिली है।

ASG राजू-  मान लीजिए कि कोई राजनीतिक व्यक्ति चुनाव से 2 दिन पहले हत्या कर देता है। क्या उसे गिरफ्तार नहीं किया जाएगा? क्या उसकी गिरफ्तारी से बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचेगा? आप हत्या करते हैं और कहते हैं कि मुझे गिरफ्तार नहीं किया जा सकता क्योंकि इससे बुनियादी ढांचे का उल्लंघन होगा।

ASG राजू  केजरीवाल व्यक्तिगत रूप से इसमें शामिल हैं।

ASG राजू-  विचाराधीन कैदियों को यह कहने का कोई अधिकार नहीं है कि हम अपराध करेंगे और हमें गिरफ्तार नहीं किया जाएगा क्योंकि चुनाव आ गए हैं। यह पूरी तरह से हास्यास्पद है। इससे अपराधियों को खुलेआम घूमने का लाइसेंस मिल जाएगा।

ASG राजू- अगर एक सामान्य आदमी ने कोई अपराध किया है तो उसे सलाखों के पीछे जाना ही होगा, लेकिन आप मुख्यमंत्री हैं इसलिए आपको गिरफ्तार नहीं किया जा सकता? आप देश को लूट लेंगे लेकिन कोई आपको छू नहीं सकता क्योंकि चुनाव आ रहे हैं? आप कहते हैं कि आपकी गिरफ्तारी बुनियादी ढांचे का उल्लंघन करेगी? यह किस तरह का बुनियादी ढांचा है?

ASG राजू –  एक आतंकवादी का मामला लीजिए जो एक राजनेता भी है। वह सेना के वाहन को उड़ा देता है और कहता है कि मैं चुनाव लड़ना चाहता हूं इसलिए आप मुझे छू नहीं सकते? यह किस तरह का तर्क है?

ASG राजू – गवाहों के  ऐसे बयान हैं जो दिखाते हैं कि शराब नीति के बनाने से लेकर उसके लागू करने तक बाहरी लोग शामिल थे।

केजरीवाल की याचिका पर हाईकोर्ट में लंच के बाद सुनवाई शुरू…

ईडी की तरफ से ASG राजू ने कहा कि केजरीवाल ने याचिका गिरफ्तारी को रद्द करने की डाली.है .. लेकिन इनके वकील ने बहस जमानत की या मुकदमे को रद्द करने की बहस की

ईडी- अगर हम प्रॉपर्टी अटैच करेंगे तो ये कहेगे कि चुनाव है और हमें शामिल नहीं होने दे रहे है और नहीं करेंगे तो ये दलील देंगे कि क्या कुछ मिला.. कोई रिकवरी हुई ?

राजू- केजरीवाल ने पहले रिमांड आदेश को चुनौती दी है, जो 26 मार्च को हुई थी, आज 3 अप्रैल है। 28 मार्च को दूसरा रिमांड आदेश पारित किया गया। उसे चुनौती नहीं दी गई है। न्यायिक हिरासत के तीसरे रिमांड आदेश को चुनौती नहीं दी गई है। इसलिए आज उनकी हिरासत या गिरफ्तारी पहले रिमांड आदेश के अनुसार नहीं है, यह 1 अप्रैल के आदेश के अनुसार है जिसे चुनौती नहीं दी गई है।

SHARE THIS

खेल

KKR vs RCB: कोलकाता नाइट राइडर्स ने एक रन से मारी बाजी, आखिरी गेंद पर जीता मैच

Published

on

SHARE THIS

KKR vs RCB: कोलकाता नाइट राइडर्स ने इस मुकाबले को 1 रन से जीत लिया है। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की टीम ने ऑल आउट होकर 20 ओवर में 221 रन बनाए हैं।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

बिहार में एनडीए को झटका, लालू की पार्टी में शामिल हुए सांसद महबूब अली कैसर

Published

on

SHARE THIS

राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद महबूब अली कैसर आरजेडी में शामिल हो गए हैं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने उन्हें आरजेडी की सदस्यता दिलाई। राष्ट्रीय लोक दल के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने पहले ही इसकी जानकारी दे दी थी। महबूब ने कुछ दिन पहले ही पशुपति पारस की राष्ट्रीय लोक जदनशक्ति पार्टी से इस्तीफा दिया था। इसके बाद वह चिराग पासवान से मिले थे और उनके चिराग पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन उन्होंने अब पाला बदलकर आरजेडी की सदस्या ग्रहण कर ली है।

चौधरी महबूब अली कैसर राष्ट्रीय लोकजनशक्ति पार्टी का हिस्सा थे। रामविलास पासवान की यह पार्टी उनके निधन के बाद 2021 में टूट गई। रामविलास के छोटे भाई पशुपति पासर ने राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी बनाई और पार्टी का दूसरी हिस्सा रामविलास के बेटे चिराग के पास गया, जिन्होंने लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) का गठन किया। 2021 में महबूल अली कैसर पशुपति पारस के गुट में थे और नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली एनडीए सरकार का समर्थन किया।

2024 में बदले हालात

2024 लोकसभा चुनाव से पहले टिकट का बंटवारा हुआ तो बीजेपी ने चिराग पासवान के गुट वाले दल को सभी सीटें दे दीं। पशुपति के गुट को कोई सीट नहीं मिली तो महबूब अली ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और चिराग पासवान से बात कर खगड़िया से टिकट तलाशने लगे। चिराग ने इस सीट पर राजेश वर्मा को टिकट दे दिया तो अब महबूब ने आएलडी में शामिल होने का फैसला किया। महबूब के बेटे युसुफ सलाउद्दीन पहले से ही आरजेडी का हिस्सा हैं। हालांकि, कैसर को खगड़िया से टिकट मिलने की संभावना अभी भी नहीं है, क्योंकि आरजेडी ने यह सीट अपने सहयोगी दल सीपीएम को दी है और सीपीएम ने संजय कुमार को यहां से टिकट दिया है।

एनडीए की बढ़ेंगी मुश्किलें

खगड़िया के मौजूदा सांसद चुनाव नहीं लड़ रहे हैं और वह सीपीएम उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार कर सकते हैं। इसके अलावा एनडीए गठबंधन के वोट छिटककर विपक्षी गठबंध के खाते में जा सकते हैं। इस स्थिति में राजेश वर्मा के लिए चुनाव जीतना मुश्किल हो सकता है। खगड़िया में सीपीएम और संजय कुमार का अपना वोट बैंक भी है।

 

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

एक अद्वितीय घटना : एक महिला ने दिया 6 बच्चों को जन्म 

Published

on

SHARE THIS

रावलपिंडी :- पाकिस्तान के रावलपिंडी जिले में एक अद्वितीय घटना की चर्चा हो रही है, जहां एक महिला ने सेक्सटुपलेट्स को जन्म दिया है। जानकारी के अनुसार इस महिला को गुरुवार रात लेबर पेन के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों ने एक लंबी प्रक्रिया के बाद सेक्सटुपलेट्स का जन्म दिलाया। डॉक्टरों के अनुसार, नवजात शिशु और माता दोनों ही स्वस्थ हैं। जानकारी के अनुसार इस अद्वितीय घटना में 4 लड़के और 2 लड़कियां शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार, सभी नवजात बच्चे और उनकी मां की स्थिति स्वस्थ है।

हालांकि, बच्चों को अच्छी देखभाल के लिए अभी भी ICU में रखा गया है। जानकारी के अनुसार वहीद, जो हजारा कॉलोनी में निवास करते हैं, उन्होंने अपनी पत्नी जीनत को गुरुवार को रावलपिंडी जिला अस्पताल में लेबर पेन के कारण भर्ती कराया था।
वहीं डॉक्टरों का कहना है कि सेक्सटुपलेट्स होने की दर बहुत कम होती है। महिला ने लंबे ऑपरेशन के बाद एक के बाद एक 6 बच्चों को जन्म दिया था, जिनमें से 4 लड़के और 2 लड़कियां थीं। हालांकि सभी बच्चों का वजन 2 पाउंड से कम था। एक लेबर रूम में कार्यरत डॉक्टर ने जानकारी दी कि यह डिलीवरी कोई साधारण या मामूली नहीं थी, जिसमें कई परेशानियां आई थीं।

जीनत को भी बच्चों को जन्म देने के बाद कुछ दिक्कतें आईं, लेकिन डॉक्टर ने इसे कुछ दिनों में स्वाभाविक रूप से ठीक होने का अनुमान लगाया है। इस अद्वितीय स्थिति के बाद, डॉक्टर और अस्पताल के स्टाफ काफी खुश हैं। डॉक्टर ने यह भी कहा कि इसमें उपरवाले की कृपा है कि मां और बच्चों की स्वस्थता को बनाए रखा है। दरअसल सेक्सटुपलेट्स का अर्थ है एक साथ जन्मे ग्रुप में छह संतानें। इसका जन्म होना एक अत्यधिक असामान्य घटना होती है जिसे अधिकांश महिलाओं में नहीं देखा जाता है।

 

 

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending