Connect with us

देश-विदेश

साथ आ गए सिद्धारमैया-शिवकुमार…अब ऑल इज वेल? इस फोटो ने दिला दी पायलट-गहलोत, कमलनाथ-सिंधिया की याद

Published

on

SHARE THIS

नई दिल्ली: पांच दिनों से चल रहे कर्नाटक कांग्रेस के सियासी नाटक का आज अंतिम दिन है। अब कांग्रेस की वो प्रेस कॉन्फ्रेंस हो रही है जिसका इंतज़ार पिछले पांच दिन से हो रहा था। कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं जिसमें कर्नाटक के मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान किया जाएगा। आधी रात सिद्धारमैया के नाम पर डीके शिवकुमार ने अपनी सहमति दे दी थी इसके बाद आज दोनों केसी वेणुगोपाल के घर पर पहुंचे। वहां ब्रेकफास्ट मीटिंग के बाद सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार एक कार में सवार होकर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के घर पहुंचे। खरगे के साथ दोनों की तस्वीर रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट की है।

आज सामने आई सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार की फोटो ने राजस्थान और मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव की याद दिला दी। तब भी राजस्थान और मध्य प्रदेश कांग्रेस सीएम की कुर्सी को लेकर लंबी खींचतान चली थी। राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट मुख्यमंत्री की कुर्सी के दावेदार थे तो एमपी में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया। लेकिन उस वक्त भी मेहनत की बजाय कांग्रेस हाईकमान ने अनुभव को तवज्जो दी थी।

बता दें कि कर्नाटक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया एक बार फिर मुख्यमंत्री बनेंगे तो पार्टी को समय-समय पर संकट से उबारने वाले डीके शिवकुमार को डिप्टी सीएम के पद से ही संतुष्ट होना पड़ेगा। कांग्रेस आलाकमान के फैसले के बाद अब बेंगलुरु में सिद्धारमैया खेमें में जहां जश्न है वहीं कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार को चार दिनों की रस्सा कस्सी के बाद हाईकमान के आगे सरेंडर करना पड़ा।

कर्नाटक सीएम का फैसला कांग्रेस हाईकमान के लिए बहुत मुश्किल भरा था। नतीजों के बाद पल पल बदलते समीकरण के बीच कर्नाटक के कुर्सी के किस्से आगे बढ़ते रहे और डीके शिवकुमार की मेहनत पर सिद्धारमैया का अनुभव भारी पड़ गया।बता दें कि राहुल गांधी ने ऑब्जर्वर्स से सभी विधायकों से वन-टु-वन बात करने को कहा था। सूत्रों की मानें तो इनमें 80 से ज्यादा विधायकों ने सिद्धारमैया के फेवर में वोट किया था जाहिर है हाईकमान ने उसी इनपुट के आधार पर ये फैसला लिया है।

SHARE THIS

देश-विदेश

नीतीश कुमार की जुबान फिर लड़खड़ाई, पीएम मोदी के बारे में कह दी ऐसी बात, चौंक गए सब

Published

on

SHARE THIS

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जुबान आजकल कुछ ज्यादा लड़खड़ा रही है। ताजा घटना पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र के दनियावां इलाके की है। यहां एनडीए प्रत्याशी के चुनाव प्रचार में भाषण देते हुए सीएम नीतीश की जुबान लड़खड़ा गई और उन्होंने नरेंद्र मोदी को देश का मुख्यमंत्री बनाने की अपील की। फिर जब उनके संज्ञान में यह बात आई कि नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री नहीं, बल्कि फिर से प्रधानमंत्री बनाना है, तब जाकर अपनी बात सुधारी और जनता से नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने की अपील की।

दरअसल, नीतीश कुमार पटना साहिब लोकसभा सीट के अंतर्गत आनेवाले दनियावां में एनडीए उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद के चुनाव प्रचार में भाषण दे रहे थे। उन्होंने कहा-‘एनडीए की बिहार की सभी 40 सीटों पर विजय हो.. एनडीए पूरे देश में 400 सीट जीते और नरेंद्र मोदी जी फिर मुख्यमंत्री बनें..देश का विकास हो.. बिहार का विकास हो..’ इतना सुनते ही उनके अंगरक्षक ने सीएम के कान में कहा कि मुख्यमंत्री नहीं नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं, फिर नीतीश कुमार ने अपनी बात सुधारते हुए कहा- आंय…अरे वह तो प्रधानमंत्री हैं ही उनको फिर से प्रधानमंत्री बनाना है।

बता दें कि इससे पहले बिहार के नवादा में उन्होंने एक जनसभा में एनडीए को देश भर में 4 हजार सीटें जिताने की अपील की थी। बाद में जब उन्हें यह अहसास हुआ कि वो गलत बोल गए हैं तो उन्होंने सुधारते हुए कहा.. अरे गलती से बोल दिया 4 हजार नहीं 400 सीट दिलाना है।

नीतीश की बात सच होकर रहेगी: आरजेडी

वहीं आरजेडी ने नीतीश कुमार की बात को सच बताया है। आरजेडी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार के मुंह से सही बात निकल गई जो वह बराबर कहा करते थे कि 2014 वाले 2024 में नहीं आएंगे। आज उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी अब मुख्यमंत्री बनेंगे गुजरात के। नीतीश कुमार जी ने कह दिया कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे। इतना लंबा राजनीतिक अनुभव है उनका.. भले वो चले गए हों बीजेपी के साथ लेकिन उन्हें इस बात का अंदेशा है कि केंद्र में बीजेपी की सरकार नहीं बनेगी। नीतीश कुमार ने जो बात कही है वो सच होगी।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

दिल्ली पुलिस ने न्यू बोर्न बेबी केयर हॉस्पिटल के मालिक को किया गिरफ्तार, 7 बच्चों की हुई थी मौत

Published

on

SHARE THIS

दिल्ली पुलिस ने विवेक विहार के न्यू बोर्न बेबी केयर अस्पताल के मालिक नवीन को गिरफ़्तार कर लिया है। वहीं, अस्पताल में आग लगने की घटना का पता लगाने के  लिए फॉरेंसिक टीम और डीसीपी शाहदरा सुरेंद्र चौधरी मौके पर पहुंच गए हैं। बीते दिन तीन मंजिला न्यू बोर्न बेबी केयर में बीते दिन 7 बच्चों की मौत हो गई थी, जिसके बाद पुलिस ने अस्पताल के मालिक पर मामला दर्ज कर लिया था। जानकारी के मुताबिक, 12 बच्चों को बचाया गया जबकि 5 अन्य बच्चे भर्ती हैं, जिसमें से एक को वेटिंलेटर पर रखा गया था। जानकारी दे दें कि बीते दिन विवेक विहार के न्यू बोर्न बेबी केयर अस्पताल में भीषण आग लग गई थी।

ऑक्सीजन सिलेंडरों में भी हुआ था धमाका

जानकारी के मुताबिक, ऑक्सीजन सिलेंडरों में धमाकों के साथ आग लगी थी, जिसके बाद आग ने विकराल रूप लेकर आसपास के दुकानों और बिल्डिंगो का भी अपने आगोश में ले लिया था। दिल्ली फायर सर्विसेज के मुताबिक, रात 11.32 बजे सूचना मिली थी कि न्यू बोर्न बेबी केयर हॉस्पिटल में आग लग गई है, जिसके बाद मौके में फायर ब्रिगेड की 8 गाड़ियां मौके पर पहुंची और 12 बच्चों को बचाया। 5 बच्चों को ईस्ट दिल्ली के एडवांस्ड केयर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

2 अन्य इमारतों को भी पहुंचा नुकसान

वहीं, फायर ऑफिसर राजेंद्र अटवाल ने जानकारी देते हुए बताया, ‘रात 11:32 बजे फायर सर्विस कंट्रोल रूम को जानकारी मिली कि एक हॉस्पिटल में आग लग गई है। जिसके बाद मौके पर कुल 16 फायर टेंडर पहुंचे और आग पर काबू पाया। इस आग से 2 अन्य इमारतें भी प्रभावित हुईं हैं।

SHARE THIS
Continue Reading

देश-विदेश

पापुआ न्यू गिनी में आए भूस्खलन में 670 लोगों की मौत, संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने लगाया अनुमान

Published

on

SHARE THIS
मेलबर्न: संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने पापुआ न्यू गिनी में हुए भूस्खलन में भारी संख्या में लोगों के मारे जाने की आशंका जाहिर की है। अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (आईओएम) ने रविवार को अनुमान जताया कि पापुआ न्यू गिनी में बड़े पैमाने पर हुए भूस्खलन से 670 लोगों की मौत होने की आशंका है। जबकि स्थानीय अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया था कि भूस्खलन के कारण 100 लोगों की मौत होने की आशंका है। दक्षिण प्रशांत द्वीप राष्ट्र में संयुक्त राष्ट्र प्रवासन एजेंसी के मिशन के प्रमुख सेरहान एक्टोप्राक ने कहा कि मौत का संशोधित आंकड़ा यमबली गांव और एंगा प्रांतीय अधिकारियों की इस गणना पर आधारित है कि शुक्रवार को भूस्खलन के कारण 150 से अधिक मकान दब गए हैं, जबकि पहले 60 मकान दबने का अनुमान जताया गया था।
एक्टोप्राक ने ‘एसोसिएटेड प्रेस’ (एपी) कहा, ‘‘वे अनुमान लगा रहे हैं कि 670 से अधिक लोग मिट्टी के नीचे दबे हैं।’’ स्थानीय अधिकारियों ने शुक्रवार को भूस्खलन के कारण 100 लोगों की मौत होने की आशंका जताई थी। रविवार तक केवल पांच शव और एक अन्य व्यक्ति का एक पैर बरामद किया गया था। पापुआ न्यू गिनी में रविवार को भी राहत कार्य जारी है और बचावकर्मी जीवित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जा रहे हैं।
20 से 26 फुट मलबे में दबे हो सकते हैं लोग
एक्टोप्राक ने कहा कि सहायताकर्मियों ने छह से आठ मीटर (20 से 26 फुट) गहराई में जमीन और मलबे के नीचे लोगों के जीवित मिलने की उम्मीद छोड़ दी है। इस बीच, दक्षिण प्रशांत द्वीप की सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि क्या उसे अधिक अंतरराष्ट्रीय समर्थन का आधिकारिक तौर पर अनुरोध करने की आवश्यकता है। देश की राजधानी पोर्ट मोरेस्बी से लगभग 600 किलोमीटर दूर उत्तर-पश्चिम में एंगा प्रांत में शुक्रवार को भूस्खलन के कारण लोग दब गए थे।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending