Connect with us

सेहत

आम खाने से आधा घंटे पहले जरूर कर लें ये काम, नहीं तो सेहत को हो सकता है नुकसान

Published

on

SHARE THIS

फलों का राजा आम दस्तक दे चुका है। मार्केट में इन दिनों सफेदा आम बिक रहे हैं। दिखने पीले, जूसी और स्वाद में खट्टे मीठे इन आम को देखकर किसी का भी जी खाने को ललचाएगा। अगर आप भी आम खाने के शौकीन हैं तो जान लें आम खाना का सही तरीका क्या है। अक्सर लोग आम खाते वक्त गलती कर बैठते हैं जिससे सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। जी हां स्वाद के चक्कर में सेहत से खिलवाड़ हो सकता है। इसलिए आज हम आपको आम खाने का सही तरीका बता रहे हैं। आपको आम खाने से आधा घंटे पहले ये काम जरूर करना चाहिए। इससे आम खाने का भरपूर फायदा मिलेगा और कोई नुकसान झेलना नहीं पड़ेगा।

आम खाने से पहले क्यों भिगो कर रखने चाहिए

फाइटिक एसिड निकल जाता है- आम में नेचुरली फाइटिक एसिड नामक पदार्थ पाया जाता है, जिसे एंटी-न्यूट्रिएंट माना जाता है। ये एसिड शरीर में कैल्शियम, आयरन और जिंक जैसे मिनरल्स की खपत को रोकता है। इससे शरीर में मिनरल्स की कमी हो सकती है। इसलिए आम को कुछ घंटे पानी में भिगोकर रखने से आम का अतिरिक्त फाइटिक एसिड निकल जाता है।

कीटनाशकों कम होते हैं- आम को पकाने के लिए कई तरह के कीटनाशकों का इस्तेमाल किया जाता है। ये केमिकल पेट और पाचन से जुड़ी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। जिससे सिरदर्द, कब्ज और कई दूसरी समस्याएं हो सकती हैं। ये हानिकारक केमिकल्स त्वचा, आंख और सांस लेने में जलन पैदा कर सकते हैं। इसलिए आप को खाने से आधा घंटे पहले पानी में भिगोकर जरूर रखें।

आम की गर्मी होती है कम- पानी में भिगोकर रखने से आम की गर्मी कम होती है। आम तासीर में हल्का गर्म होता है। इसे ज्यादा खाने से कुछ लोगों को चेहरे पर दाने निकल सकते हैं। कई बार मतली और उल्टी की समस्या भी हो सकती है। पानी में भिगोकर रखने से आम की गर्मी कम हो जाती है।

 

SHARE THIS

सेहत

1 महीना दाल न खाएं तो शरीर में हो जाएगी प्रोटीन की कमी ,जानें दाल खाने के फायदे…

Published

on

SHARE THIS

20 मई 2024:- भारत का स्टेपल फूड है दाल. अधिकतर लोग दाल-चावल बनाते और खाते हैं. दाल एक बेहद ही हेल्दी अनाज है. मुख्य रूप से इसमें प्रोटीन की मात्रा सबसे अधिक होती है. शरीर के लिए प्रोटीन बेहद जरूरी पोषक तत्व है. दाल (pulse) शाकाहारी और वेगन लोगों के लिए न्यूट्रिशन का पावरहाउस होता है. ऐसे में शरीर में क्या होगा जब आप दाल खाना ही छोड़ दें या फिर एक महीने तक इसे डाइट में शामिल ही न करें. चलिए जानते हैं दाल (Dal) छोड़ने पर शरीर में क्या होता है और इसके सेवन से क्या फायदे हो सकते हैं.

दाल ना खाएं तो क्या होगा?
इंडियनएक्सप्रेस में छपी एक खबर के अनुसार, बिना दाल खाए आप डेली प्रोटीन की जरूरतों को पूरा नहीं कर सकते हैं. इससे आप मांसपेशियों में कमजोरी हो सकती है. खासकर उन लोगों में जो पूरी तरह से शाकाहार फूड्स पर निर्भर हैं. नॉनवेज का सेवन नहीं करते हैं. यदि आप एक महीने तक दाल का सेवन ना करें तो आपके शरीर में प्रोटीन की कमी हो सकती है. पाचन संबंधित समस्याएं हो सकता हैं. दरअसल, दाल में फाइबर भी होता है और फाइबर युक्त फूड्स ना खाएं तो कब्ज, पाचन तंत्र की समस्याएं हो सकती हैं. दाल में पाए जाने वाले विटामिंस और मिनरल्स भी शरीर के लिए जरूरी हैं. इनकी कमी होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता और संपूर्ण सेहत प्रभावित हो सकती है.

दाल छोड़ने का प्रभाव आपके संपूर्ण आहार, जीवनशैली और स्वास्थ्य के आधार पर भिन्न हो सकता है. जो लोग शाकाहारी और वीगन हैं और दाल खाना पसंद नहीं करते हैं तो प्रोटीन की पूर्ति के लिए बीज, नट्स, टोफू, फलियां जैसे फूड्स खा सकते हैं. हर किसी को आधा कप पका हुआ दाल प्रतिदिन जरूर खाना चाहिए. यदि आप दाल स्किप करते हैं तो फिर इसके बदले प्रोटीन और फाइबर सोर्स के लिए अन्यू फूड्स का सेवन करें.

दाल खाने के फायदे (Health Benefits of Dal)
1. इंडियनएक्सप्रेस की खबर के अनुसार, दाल खाने से कई तरह के सेहत लाभ होते हैं. दाल में प्लांट बेस्ड प्रोटीन होता है जो मांसपेशियों को मजबूत और स्वस्थ रखते हैं. साथ ही इसमें फाइबर भी होता है जो पेट को हेल्दी रखता है. पाचन शक्ति दुरुस्त रहती है. कब्ज से बचाती है.

2. दाल में कई तरह के विटामिंस और मिनरल्स होते हैं जैसे प्रोटीन, आयरन, फाइबर, मैग्नीशियम, बी विटामिंस आदि होते हैं, जो कई तरह के सेहत लाभ प्रदान करते हैं.

3. दाल में कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं जो धीरे-धीरे पचता है. ऐसे में दाल खाने से ब्लड शुगर लेवल तेजी से नहीं बढ़ता है.

SHARE THIS
Continue Reading

सेहत

भीषण गर्मी से सावधान! सरकार ने बताए बचने के उपाय, जानिए क्या करें और क्या नहीं करें?

Published

on

SHARE THIS

भीषण गर्मी से इंसान, पशु और पक्षी सभी परेशान हो रहे हैं। दिल्ली एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में आसमान से आग बरस रही है। सुबह 9 बजे से इतनी तेज धूप पड़ती है कि लगता है झुलस ही जाएंगे। ऐसे में गर्मी से बचना तो विशेष सावधानी बरतें। तेज गर्मी आपको और आपके परिवार को बीमार कर सकती है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से भी गर्मी से बचने के उपाय बताए जा रहे हैं। गर्मी में खासतौर से खान-पान का ख्याल रखने की जरूरत है। जानिए भीषण गर्मी और लू से कैसे करें बचाव और किन बातों का रखें ख्याल?

  1. भरपूर पानी पिएं- गर्मी से बचने का एक सबसे आसान उपाय है कि आप भरपूर पानी पिएं। इससे शरीर गर्मी से लड़ने में सक्षम होगा। तेज धूप में निकलने से पहले 1 गिलास पानी पीकर निकलें। शरीर हाइड्रेट रहेगा और पानी की कमी नहीं होगी और धूप का असर भी कम होगा। घर की बाहर और बालकनी में पशु पक्षियों के लिए भी पानी जरूर रखें।
  2. खुद को कवर करके निकलें- सर्दी ही नहीं गर्मी से बचने के लिए भी खुद को कवर करके रखें। तेज धूप में सीधे निकलने से बचें। सिर को टोपी या किसी दुपट्टे से कवर करके रखें। हेडगियर का इस्तेमाल करें। अगर धूप में ज्यादा देर के लिए जा रहे हैं तो छाता लेकर जाएं। फुल स्लीव्स के सूती कपड़े पहनें। इससे धूप के असर को कम किया जा सकता है।
  3. घर में इलेक्ट्रोलाइट्स बनाकर रखें- सिर्फ पानी ही काफी नहीं है धूप और गर्मी से बचने के लिए। इसके लिए आप घर में नमक और चीनी का घोल बनाकर रखें। इस होममेड इलेक्ट्रोलाइट्स से आप शरीर में पानी की कमी को दूर कर सकते हैं। इससे गर्मी का असर आपको प्रभावित नहीं कर पाएगा।
  4. इस समय न निकलें- भीषण गर्मी में बच्चों और बुजुर्गों का खास ख्याल रखें। तेज गर्मी में बच्चों को आउटसाइड खेलने के लिए न भेजें। 11 बजे से 4 बजे तक बच्चों और बुजुर्गों को घर पर ही रहने के लिए कहें। घर में पर्दे लगाकर रखें और हवादार जगहों पर ही बैठें।
  5. लू लगने पर क्या करें- अगर किसी को लू लग जाए तो उसे आइस पैक और ठंडे पानी से ठंडा करने की कोशिश करें। मरीज को तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाएं। ठंडी जगह पर मरीज को लिटाएं और थोडा-थोड़ा पानी देते रहें।

SHARE THIS
Continue Reading

सेहत

आम को पकाने में इस्तेमाल किया जाने वाला यह केमिकल है ज़हर, हो सकती हैं कई जानलेवा बीमारियां

Published

on

SHARE THIS

आम के मीठे फल का इंतज़ार लोग बेसब्री से करते हैं। मार्केट में भी आमों की बहार आ गयी है लेकिन आप इसे खरीदने से पहले एक बार ज़रूर सोचें। दरअसल, इन दिनों मार्केट में जो आम आ रहे हैं, वे एक जहरीले केमिकल से पकाए जा रहे हैं। बता दें इन्हें पकाने में कैल्शियम कार्बाइड (Calcium Carbide) नामक केमिकल का इस्तेमाल किया जा रहा है। ऐसे में फूड सेफ्टी और स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (FSSAI) ने आम और दूसरे फलों में कैल्शियम कार्बाइड (Calcium Carbide) का इस्तेमाल करने वाले फल व्यापारियों और फूड बिजनेस ऑपरेटर के लिए चेतावनी जारी की है।

FSSAI ने कहा है कि जो भी जहरीले रसायन कैल्शियम कार्बाइड (Calcium Carbide) से फल पकाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें यह रसायन आपकी सेहत के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। कैल्शियम कार्बाइड (Calcium Carbide) से पकाए गए फल खाने से लीवर और किडनी खराब हो सकती है। साथ ही, कैंसर का जोखिम भी बढ़ जाता है। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि कैल्शियम कार्बाइड (Calcium Carbide) क्या है और फलों में इसका उपयोग आपकी सेहत के लिए कितना खतरनाक है?

क्या है कैल्शियम कार्बाइड? (What is Calcium Carbide?)

कैल्शियम कार्बाइड एक रासायनिक पदार्थ है। यह देखने में फिटकरी जैसा होता है। यह फल में मौजूद पानी और नमी से रिएक्ट कर इथाइल गैस बनाता है। इस इथाइल गैस से फलों के अंदर आर्टिफिशियल गर्मी पैदा की जाती है। जिस वजह से फल वक्त से पहले पक जाते हैं। वक्त से पहले पके फलों में कोई पोषक तत्व नहीं पाया जाता है। न्यूट्रिशन नहीं होने की वजह से इन फलों को खाने से आपको फायदे की जगह नुकसान होगा।

कितना हानिकारक है कैल्शियम कार्बाइड केमिकल? (Calcium carbide chemical is harmful)

कैल्शियम कार्बाइड केमिकल आपकी सेहत के लिहाज से काफी खतरनाक है। इसके इस्तेमाल से लोगों को कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं इसलिए इस केमिकल पर सरकार ने बैन लगाकार रखा है। लेकिन आज भी कई फल व्यापारी अपने गोदामों में इस रसायन का खुले आम इस्तेमाल करते हैं।

कैल्शियम कार्बाइड युक्त फल खाने से हो सकती हैं ये बीमारियां (Eating fruits containing calcium carbide can cause these diseases)

कैल्शियम कार्बाइड से पके हुए फलों का लगातार सेवन करने से किडनी और लीवर से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं। पेट में अल्सर की समस्या पैदा हो सकती है। साथ ही कैंसर की संभावना भी कई गुना बढ़ जाती है। बता दें, फलों में इस रसायन के इस्तेमाल से फल अच्छी तरह से पकते नहीं है। ऐसे फल ऊपर से पके हुए नज़र आते हैं लेकिन अंदर से अधपके रहते हैं। ऐसे में ऐसे फलों का सेवन बच्चों की सेहत के लिए भी बेहद खतरनाक है।

कैसे करें कैल्शियम कार्बाइड युक्त फलों की पहचान? (How to identify fruits containing calcium carbide?)

कैल्शियम कार्बाइड युक्त फलों की पहचान आप बेहद आसानी से कर सकते हैं। कैल्शियम कार्बाइड युक्त फलों में दाग-धब्बे बहुत ज़्यादा नज़र आते है। साथ ही इनमें अन्य प्राकृतिक फलों की तुलना में ज़्यादा चमक होती है।  कैल्शियम कार्बाइड से पके फल 2 से 3 दिन में ही काले पड़ जाते हैं और जल्दी ही सड़ने लगते हैं। इस रस्याण से पके फल ज़्यादा मीठे नहीं होते हैं। फलों में  कैल्शियम कार्बाइड का इस्तेमाल करने पर वे अधपके रह जाते हैं।

कैसे करें प्राकृतिक तरीके से पके फल की पहचान? (How to identify ripe fruit naturally?)

प्राकृतिक फलों की पहचान आप बेहद आसानी से कर सकते हैं। हमेशा दाग धब्बों रहित फलों को खरीदें। हमेशा ऐसे वेंडर से ही फल खरीदें जिन पर आपको यकीन हो। फलों को खाने से पहले हमेशा साफ़ पानी से धोएं।

फलों को कैसे पकाना चाहिए? (How to ripen fruits?)

फलों को पकाने का प्राचीन तरीका आज भी सबसे बेहतरीन माना जाता है। जब पेड़ों पर फल 60 से 70 % तक तैयार हो जाता था तब उसे तोड़कर भूसे या फिर बरगद की पत्तियों के अंदर दबाकर रखा जाता था। इस वजह से फल नेचुरली पकते थे और उनमे भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते थे।

फलों को पकाने के लिए ये केमिकल है बेहतर (This chemical is better for ripening fruits)

फलों को नेचुरली पकाने के अलावा केमिकली पकाने के लिए भारत सरकार और फूड सेफ्टी और स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (FSSAI) ने फलों के लिए एथिलीन गैस (ethylene gas) का इस्तेमाल करने की इजाजत दी है। इसके इस्तेमाल से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता है। अगर आप एथिलीन गैस से फल पकाएंगे, तो वे कुदरती तरीके से पकेंगे।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending