Connect with us

क्राइम

*13 दिनों के बाद पुलिस ने कारोबारी प्रवीण सोमानी को बिहार के कुख्यात अपहरण गिरोह के सरगना चंदन सोनार के शार्गिद पप्पू चौधरी से सकुशल बरामद कर लाया राजधानी , मामले में दो आरोपियों को भी किया गया गिरफ्तार ,आरोपियों ने 3 माह तक की रेकी ,फिर दिया घटना को अंजाम*

Published

on

SHARE THIS

रायपुर ।रायपुर पुलिस की बड़ी सफलता 13 दिवस के भीतर चौकी सिलतरा क्षेत्र से अपहृत कारोबारी प्रवीण सोमानी को बिहार के कुख्यात अपहरण गिरोह से सकुशल बरामद किया गया। एवं गिरोह के दो सदस्य को भी गिरफ्तार किया गया
बता दें कि 8 जनवरी 2020 को चौकी सिलतरा क्षेत्र से कारोबारी प्रवीण सोमानी का अपहरण हुआ थाऔर अपने प्लांट से घर जाने के बीच में अज्ञात आरोपियों ने कारोबारी प्रवीण सोमानी का अपहरण कर लिया था
अपहरण के बाद से आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 6 से अधिक टीमों का गठन किया गया था
और आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. फुटेज के अध्ययन से अपहरण की पुष्टि हुई थी एवं घटना में प्रयुक्त 2 अज्ञात वाहनों के संबंध में जानकारी मिली थी
और रायपुर से लेकर प्रतापगढ़ (उ.प्र.) तक के 1500 किलो मीटर से अधिक दूरी के सी.सी.टी.व्ही. फुटेज का अध्ययन व विश्लेषण किया गया क्योकि घटना प्रथम दृष्टया किसी प्रोफेशनल अपहरण गिरोह के द्वारा करना प्रतीत हो रहा था
अपहृत कारोबारी की कार थाना विधानसभा क्षेत्र के रामकुंज कालोनी से की बरामद की गई थी। घटना स्थल सहित 1500 किलो मीटर से भी ज्यादा दूरी के क्षेत्र का तकनीकी विश्लेषण किया गया ।
 आरोपियों द्वारा बहुत ही प्रोफेशनल तरीके से अपहरण की घटना को अंजाम दिया गया था।
आरोपियों ने घटना से पूर्व 3 माह तक रेकी कर अपहरण की तैयारी की थी
और पूर्व में भी आरोपियों द्वारा अपहरण की बहुत सी घटनाओं को अंजाम दिया जा चुका है।
आरोपियों के संबंध में जानकारी प्राप्त होने पर टीमें उड़ीसा, गुजरात, बिहार एवं उत्तर प्रदेश रवाना की गई थी।
टीमों द्वारा उड़ीसा, गुजरात, बिहार एवं उत्तर प्रदेश में जाकर कैम्प करते हुये आरोपियों के संबंध में जानकारी एकत्र करना प्रारंभ किया गया ।
आरोपियों द्वारा घटना करने के लिये फर्जी गाड़ी नंबरों का उपयोग किया गया था
गिरोह के सभी सदस्य अलग – अलग राज्यों के निवासी है
पप्पू चैधरी पूर्व में हिंगोरा अपहरण काण्ड में भी आरोपी रह चुका है
पप्पू चैधरी मूलतः कुख्यात अपहरण गिरोह के सरगना चंदन सोनार का शार्गिद है ।
आरोपी पप्पू चैधरी मूलतः जिला वैशाली बिहार के बीदूपुर थाना के गंगा किनारे दीयरा के बहुत ही बीहड़ गांव मथुरा गोकुला क्षेत्र का निवासी है ।
टीम द्वारा इस गिरोह से जुड़े बिहार, गुजरात, उड़ीसा एवं उत्तर प्रदेश के दर्जनों लोगों को उठाकर उनसे गहन पूछताछ की गई एवं दर्जनों ईलाकों में छापेमार कार्यवाही की गई ।
इसी दौरान टीम को सी.सी.टी.व्ही. फुटेज एवं तकनीकी विश्लेषण के आधार पर स्थानीय शेल्टर उपलब्ध कराने वाले अनिल चैधरी को दोंदेकला से पकड़ने में सफलता मिली
अलग – अलग राज्यों में कैम्प कर आरोपियों की गिरफ्तारी में काम कर रही टीमों को गिरोह के एक अन्य सदस्य मुन्ना नाहक निवासी गंजाम उडीसा को गिरफ्तार करने में टीम को सफलता मिली
गिरोह का सरगना पप्पू चैधरी अपने गिरोह के अन्य सदस्यों को उतनी जानकारी देता था जितनी आवश्यकता हो।
टीम द्वारा लगातार अलग – अलग राज्यों में 14 से अधिक दिनों तक लगातार कैम्प करते हुये अपहृतों के चुंगल से प्रवीण सोमानी को छुड़ाने में सफलता मिली
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर आरिफ एच शेख स्वयं पटना बिहार जाकर टीम का नेतृत्व कर रहे थे
पुलिस महानिदेशक छ.ग. एवं पुलिस महानिरीक्षक रायपुर रेंज भी लगातार कर प्रकरण की समीक्षा कर रहे थे। एवं आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे थे।
आरोपियों द्वारा अपहृत कारोबारी के परिवार से करोड़ो में फिरौती की मांग की गई थी।
घटना में गिरोह के लगभग 10 सदस्य सम्मिलित है जिनकी पहचान सुनिश्चित कर ली गई है तथा उनकी शीघ्र गिरफ्तारी की जाएगी।
आरोपियों की गिरफ्तारी एवं अपहृत को छुड़ाने में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ एच शेख के नेतृत्व में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, क्राईम पंकज चन्द्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल, नगर पुलिस अधीक्षक उरला अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक नसर सिद्धकी सहित 60 से अधिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों की टीम को लगाया गया था
तकनीकी जांच के लिये सायबर शाखा की 10 सदस्यीय टीम का अलग से गठन किया गया था।
घटना हेतु आरोपियों द्वारा 100 से अधिक फर्जी मोबाईल नंबरों का उपयोग किया गया था
आरोपियों के प्राप्त संदिग्ध नंबरों के आधार पर प्राप्त की गई उनके बैंक एवं यात्रा संबंधी जानकारी फ्लाईट एवं ट्रेनों का विश्लेषण किया गया
आरापियों के कब्जे से 05 नग मोबाईल फोन एवं रेकी करने में प्रयुक्त वाहन को जप्त किया गया है
अपहृत को छुडाने में एवं रेड कार्यवाही करने में बिहार पुलिस एवं उत्तर प्रदेश पुलिस से प्राप्त सराहनीय सहयोग हुआ।
आरोपियों के विरूद्ध थाना धरसींवा में अपराध क्रमांक 19/20 धारा 365, 120बी, 201 भा.द.वि. के तहत् अपराध पंजीबद्ध किया गया है। डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया की प्रार्थी ललित सोमानी पिता स्व0 गौरीशंकर सोमानी उम्र 53 साल साकिन मालवीय नगर थाना मोहन नगर जिला दुर्ग ने थाना धरसींवा में रिपोर्ट दर्ज कराया कि इसका छोटा भाई प्रवीण सोमानी पिता स्व0 विजयशंकर सोमानी उम्र 46 साल निवासी जयश्री मरलीन मंडी गेट थाना पंडरी जिला रायपुर जो 8 जनवरी को शाम 06ः00 बजे अपनी लाल रंग की कार रेंज रोव्हर क्रमांक सी0जी0 10 ए0एल0 9637 से अपनी कंपनी सोमानी फैक्ट्री सिलतरा थाना धरसींवा जिला रायपुर से घर के लिये निकला है। जो अभी तक घर वापस नही आया हैं। जिसकी अंतिम बार सोमानी फैक्ट्री सिलतरा के स्टाफ के लोग देखे हैं। छोटा भाई प्रवीण की पता तलाश आसपास एवं रिश्तेदारों मे किये पता नही चला जिस पर थाना धरसींवा में अपराध क्रमांक 19/20 धारा 365 भादवि. के अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
घटना की गंभीरता को देखते हुये पुलिस महानिदेशक, छ.ग. डी.एम. अवस्थी द्वारा पुलिस महानिरीक्षक रायपुर रेंज रायपुर आनंद छाबड़ा एवं उप पुलिस महानिरीक्षक व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख को अपने नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन कर अपहृत कोराबारी को छुड़ाने एवं आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर आरिफ शेख द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, क्राईम पंकज चन्द्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल, नगर पुलिस अधीक्षक उरला अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौकक नसर सिद्धकी को सम्मिलित करते हुये स्वयं केे नेतृत्व में 60 सदस्यीय विशेष टीम का गठन कर प्रकरण की विवेचना प्रारंभ की गई।
आरोपियों की गिरफ्तारी एवं अपहृत को छुडाने में लगी विशेष टीम द्वारा सर्वप्रथम घटना स्थल जाकर निरीक्षण किया गया एवं अलग – अलग कार्य हेतु टीमों का अलग – अलग गठन कर कार्य विभाजन किया गया। 8 अलग – अलग टीमें बनाकर टीमों को सी.सी.टी.व्ही. फुटेज संग्रहण, तकनीकी विश्लेषण, कारोबारी के संबंध में स्थानीय जानकारी एकत्रित करने सहित अन्य कार्यो में लगाया गया। सी.सी.टी.व्ही. फुटेज संग्रहण में लगी टीम को घटना स्थल पर दो संदिग्ध वाहनों का फुटेज प्राप्त होने पर वाहनों का आने जाने का रूट निर्धारण हेतु बिलासपुर दिशा की ओर रवाना किया गया। टीम 1500 किलो मीटर से अधिक दूरी का सी.सी.टी.व्ही. फुटेज संग्रहण करते हुये प्रतापगढ़ (उ.प्र.) तक पहुंच गई जिस पर पुनः एक टीम उ.प्र. रवाना की गई। तकनीकी विश्लेषण में लगी टीम को कुछ संदिग्ध नंबर प्राप्त होने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल एवं नगर पुलिस अधीक्षक उरला अभिषेक माहेश्वरी के नेतृत्व में बिहार रवाना की गई साथ ही एक टीम नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक नसर सिद्धकी के नेतृत्व में गुजरात एवं एक टीम उड़ीसा के लिये भी रवाना किया गया। सभी टीमें प्राप्त सूचना व जानकारी के आधार पर अलग – अलग राज्यों में काम कर रही थी जिसकी माॅनिटरिंग वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर आरिफ शेख स्वयं कर रहे थे एवं सभी टीमों को आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे थे। तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर टीम द्वारा दोंदेकला निवासी अनिल चैधरी जो कि मूलतः बिहार का निवासी है से पूछताछ प्रारंभ किया गया। अनिल चैधरी से प्राप्त जानकारी एवं तकनीकी साक्ष्यों से प्राप्त जानकारी के आधार पर बिहार में लगी टीम द्वारा गौरव कुमार उर्फ पप्पू चैधरी जो कि पूर्व में हिंगोरा अपहरण काण्ड का आरोपी भी रह चुका है एवं चंदन सोनार गिरोह से संबंधित है के संबंध में जानकारी एकत्रित करना प्रारंभ किया गया। टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि पप्पू चैधरी वैशाली जिले के बीहड़ क्षेत्र गंगा नदी के दीयरा किनारे स्थित ग्राम मथुरा गोकुला थाना बीदूपुर का निवासी है एवं बिहार पुलिस द्वारा भी उस पर 50 हजार रूपये का ईनाम घोषित किया गया है। उसके द्वारा ही अपने गिरोह के सदस्यों के साथ मिलकर उपरोक्त अपहरण की घटना को अंजाम दिया गया है जिसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री आरिफ एच शेख स्वयं पटना बिहार पहुंचकर टीम का नेतृत्व किया एवं बिहार पुलिस की एस.टी.एफ. के साथ मिलकर बीहड़ दीयरा क्षेत्र में सर्च आॅपरेशन प्रारंभ किया गया एवं दीयरा के 100 किलो मीटर क्षेत्र से अधिक क्षेत्र में सर्च कार्यवाही की गई, किंतु गिरोह का सरगना पप्पू चैधरी वहां से फरार हो चुका था। टीम को गिरोह के संबंध में एक महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होने पर बिहार की टीम को उ.प्र. रवाना किया गया एवं एक अन्य टीम को उड़ीसा के गंजाम रवाना किया गया। गंजाम उडीसा की टीम द्वारा उ.प्र. रवाना हुई टीम से प्राप्त जानकारी के आधार पर मुन्ना नाहक निवासी गंजाम को हिरासत में लेकर पूछताछ प्रारंभ किया गया एवं प्राप्त जानकारी के आधार पर उ.प्र. के अम्बेड़कर नगर जिले के अलग – अलग ग्रामों में रेड कार्यवाही की गई एवं गिरोह द्वारा अपहृत को रखें गये स्थान की पहचान सुनिश्चित की जाकर देर रात्रि में ही दबिश दी गई। टीम द्वारा अपहृत को रखें गये स्थान पर रेड करने से कुछ समय पूर्व ही आरोपी अपहृत को लेकर वहां से निकल चुके थे जिस पर टीम द्वारा उनका पीछा प्रारंभ किया गया, जिससे आरोपी अपहृत को सूनसान स्थान पर छोड़कर फरार हो गये, जिससे टीम द्वारा अपहृत को अपने कब्जे में लिया गया।
उपरोक्त अपहृत गिरोह में मूलतः उडीसा, बिहार, उत्तर प्रदेश एवं गुजरात के लोग सम्मिलित है जिनकी पहचान पूरी तरह सुनिश्चित कर ली गई है एवं शीघ्र ही इनकी गिरफ्तारी कर ली जायेगी। आरोपियों को गिरफ्तार करने एवं अपहृत को छुडाने में रायपुर पुलिस के 60 से अधिक अधिकारी/कर्मचारी एवं 10 से अधिक तकनीकी प्रशिक्षित लोगों को लगाया गया था। टीम द्वारा 1500 किलो मीटर से अधिक दूरी के सी.सी.टी.व्ही. फुटेज एवं 10 लाख से अधिक मोबाईल नंबरों का विश्लेषण किया गया एवं संदिग्ध वाहन माॅडलों के 05 हजार से अधिक वाहनों की जांच की गई। प्रकरण में अलग – अलग क्षेत्र मंे रेड कार्यवाही करने में बिहार एस.टी.एफ. एवं उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा सराहनीय योगदान दिया गया।
आरोपियों की गिरफ्तारी एवं अपहृत को सकुशल बरामद करने में आनंद छाबड़ा पुलिस महानिरीक्षक रायपुर रेंज रायपुर एवं आरिफ एच शेख, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर के नेतृत्व में निम्नांकित अधिकारी/कर्मचारियों की विशेष भूमिका रही . पंकज चन्द्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध। तारकेश्वर पटेल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण।
अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक उरला।
नसर सिद्धकी, नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चैक।. सुश्री कल्पना वर्मा, परि. उप पुलिस अधीक्षक।
लोकेश देवांगन, परि. उप पुलिस अधीक्षक।
निरीक्षक
रमाकांत साहू, थाना प्रभारी खमतराई विशाल सोम थाना प्रभारी राखी
अश्वनी राठौर, थाना प्रभारी विधानसभा नितिन उपाध्याय, थाना प्रभारी उरला सोनल ग्वाला, निरीक्षक रायपुर।
उप निरीक्षक
अमित तिवारी, प्रभारी सिलतरा चौकी होमलाल नागरची, सायबर सेल।
सहायक उप निरीक्षक
शंकर लाल ध्रुव, थाना गुढियारी किशोर सेठ, थाना डी डी नगर
प्रधान आरक्षक
जमील खान प्र.आर. रायपुर। संतोष सिंह प्र.आर. रायपुर।
सरफराज चिश्ती प्र.आर.। महेन्द्र राजपूत प्र.आर. सायबर सेल रायपुर।
ईरफान खान प्र.आर. रायपुर। मोह0 कय्यूम प्र.आर. रायपुर। प्रदीप पटेल प्र.आर. रायपुर। प्रेमराज बारिक प्र.आर. रायपुर। अजय सिंह प्र.आर. रायपुर। जयनारायण यादव प्र.आर. रायपुर।कुलदीप द्विवेदी प्र.आर. रायपुर। संदीप दीक्षित प्र.आर. रायपुर।राधाकांत पाण्डेय प्र.आर. रायपुर
आरक्षक
.श्रीमती बसंती मौर्य सायबर सेल रायपुर .सुश्री बबीता देवांगन सायबर सेल।
सुरेश देशमुख, सायबर सेल रायपुर चिंतामणी साहू सायबर सेल घनश्याम साहू सायबर सेल अनुरंजन तिर्की सायबर सेल।
तुकेश निषाद रायपुर राजिक खान रायपुर।
चन्द्र कुमार ध्रुव रायपुर अनिल पाण्डेय रायपुर।
अनुप मिश्रा रायपुर, नोहर देशमुख रायपुर।
, प्रमोद वर्ठी रायपुर, राकेश पाण्डेय रायपुर।
, विजय पटेल रायपुर, वीरेन्द्र भार्गव रायपुर
,धनंजय गोस्वामी रायपुर, जसवंत सोनी रायपुर।
, कृपा सिंधु पटेल रायपुर, प्रमोद बेहरा रायपुर।
, उपेन्द्र यादव रायपुर, रवि तिवारी रायपुर
, मोह0 सुल्तान रायपुर, महेश नेताम रायपुर।
, टेक सिंह मोहले सायबर सेल रायपुर, मुकेश चैहान रायपुर।
, हिमांशु राठौर रायपुर, संजय मरकाम रायपुर।
, आशीष त्रिवेदी रायपुर, घनश्याम सिंह, रायपुर।
, कमल जोशी जिला धमतरी। ,पूरन देवांगन जिला बालोद।
, विनय पाण्डेय  ,श्रीमती सारिका देवांगन है
गिरफ्तार आरोपी अनिल चैधरी उम्र 32 साल निवासी दोंदेकला थाना विधानसभा रायपुर।
मुन्ना नाहक निवासी जिला गंजाम उडीसा।

SHARE THIS

क्राइम

महादेव एप : नीतीश दीवान की न्यायिक रिमांड बढ़ी

Published

on

SHARE THIS

रायपुर :  महादेव एप सट्टेबाजी मामले में ईडी की गिरफ्त में आए पैनल ऑपरेटर नीतीश दीवान की दूसरी बार ईडी रिमांड गुरुवार को पूरी होने पर उसे कोर्ट में पेश किया गया। ​बता दें कि 3 दिन की रिमांड खत्म होने पर कोर्ट ने नीतीश दीवान को 14 दिन तक न्यायिक रिमांड पर भेज दिया है। मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि कोर्ट ने 14 दिन 14 मार्च तक न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा है।

वहीं आठ दिन की ईडी रिमांड में नीतीश से सौरभ और रवि समेत उसके बड़े भाई और पूरे ऐप से हुई इनकम के बारे में अहम जानकारी मिली है। महादेव ऐप को लेकर दिल्ली, कलकत्ता और मुंबई में हुई रेड कार्यवाही में नीतीश से पूछताछ में मिले इनपुट पर भी ईडी की टीमें काम कर रही है।

SHARE THIS
Continue Reading

क्राइम

फंदे में लटकी हुई युवक की मिली लाश,ग्रामीणों में दहशत का माहौल

Published

on

SHARE THIS

तखतपुर :  बिलासपुर मुंगेली राष्ट्रीय राज्य मार्ग के ग्राम जोरापरा में फंदे में लटकी हुई युवक की लाश मिली है. सुबह-सुबह लाश को देख कर ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है. युवक की पहचान 18 वर्षीय योगेश खांडे के रूप में हुई है. जो की तखतपुर के वार्ड क्रमांक 14 बेलसारी का रहने वाला था. बता दें कि गुरुवार सुबह बिलासपुर मुंगेली राष्ट्रीय राज्य मार्ग के ग्राम जोरापरा में एक युवक की लाश लोहे के पाईप पर लटकी मिली, जिसकी सुचना ग्रामीणों ने पुलिस को दी.

मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है. युवक तखतपुर के बेलसारी का रहने वाला था. युवक की लाश जहां पर मिली है वहां से युवक का मोबाइल और मोटरसाइकल गायब है, जिससे परिजन हत्या की आशंका जाहिर कर रहे हैं. अब ये ह्त्या है या आत्महत्या ये जाँच के बाद ही पता चलेगा. फिलहाल तखतपुर पुलिस शव का पंचनामा कर आगे की कार्रवाई में जुट गयी है.

SHARE THIS
Continue Reading

क्राइम

गांजा की तस्करी करने वाले आरोपी को खरोरा पुलिस ने किया गिरफ्तार

Published

on

SHARE THIS

संदीप छाबड़ा खरोरा अमनपथ :  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर  संतोष सिंह के द्वारा चलाये जा रहे नारकोटिक/ ड्रग्स व अवैध नशे खिलाफ कार्यवाही व जागरूकता अभियान के तहत्  अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण रायपुर  नीरज चन्द्राकर एवं नगर पुलिस अधीक्षक विधानसभा रायपुर सुरेन्द्र ध्रुव के निर्देशन में अभियान चलाकर आरोपी मानस तिवारी निवासी सारागांव द्वारा आरोपी मनोज अग्रवाल निवासी गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद से गांजा लेकर करता था थाना क्षेत्र में लुप-छिपकर बिक्री, पकड़ा गया रंगे हाथ।विवरण इस प्रकार है कि दिनांक 27.02.2024 को मुखबीर से सूचना प्राप्त हुआ कि मानस तिवारी पिता मनोज तिवारी ग्राम सारागांव निवासी ग्राम पिकरीडीह पुलिया मोड़ के पास मेनरोड में अपने पास बैगनी-गुलाबी रंग के प्लास्टिक झोला में बिक्री करने हेतु अवैध रूप से गांजा रखकर ग्राहक का इंतजार कर रहा है, जिस पर सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर आदेशानुसार तत्काल टीम तैयार कर रवाना होकर आरोपी मानस तिवारी को अवैध रूप से बिक्की करने हेतु अपने पास एक बैगनी- गुलाबी रंग के प्लास्टिक झोला के अंदर मादक पदार्थ गांजा रखे पकड़ा गया, जिस पर आरोपी के कब्जे से 1.105 किलोग्राम गांजा किमती लगभग 10000 रूपये को जप्त कर गिरफ्तार किया गया। आरोपी मानस तिवारी से गांजा तस्करी करने वाले गिरोह के बारे में पूछताछ कर जानाकरी ली गयी, जिसने बताया कि ग्राम गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद निवासी मनोज अग्रवाल से गांजा लेकर क्षेत्र में बिक्री करना बताया, जिस पर टीम तैयार कर महासमुंद आरोपी मानस तिवारी को लेकर गये, जहां उसके बताये अनुसार गांजा तस्कर करने वाले आरोपी मनोज अग्रवाल को भी पकड़ा गया जिसके कब्जे से अपने घर के अंदर रखे 3.079 किलोग्राम गांजा किमती लगभग 30000 रूपये को जप्त कर गिरफ्तार किया गया। दोनो आरोपियो को 14 दिवस का न्यायिक रिमाण्ड प्राप्त करने हेतु माननीय न्यायालय रवाना किया गया ।

अपराध क्रमांक 140/2024 धारा 20 बी नारकोटिक एक्ट।
दिनांक घटना समय 27.02.2024 को दोपहर 14.15 बजे।
रिपोर्ट समय 27.02.2024 को 16.25 बजे ।

नाम आरोपीगण
01. मानस तिवारी पिता मनोज तिवारी उम्र 23 साल साकिन सारागांव थाना खरोरा जिला रायपुर।
02. मनोज अग्रवाल पिता स्व. ओमप्रकाश अग्रवाल उम्र 42 साल साकिन गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending