Connect with us

क्राइम

*BREAKING- फर्जी राशन कार्ड घोटाला मामले में EOW ने दर्ज की एफआईआर*

Published

on

SHARE THIS

रायपुर- फर्जी राशन कार्ड मामले में आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) ने एफआईआर दर्ज कर ली है. इस एफआईआर को नान घोटाला मामले की जांच में सामने आए तथ्यों से जोड़कर देखा जा रहा है. तत्कालीन रमन सरकार के कार्यकाल के दौरान साल 2013 में बड़ी तादात में फर्जी ढंग से राशन कार्ड बना दिए गए थे. आरोप था कि चुनावी फायदा उठाने के लिए फर्जी राशन कार्ड बनाए गए हैं. तब विपक्ष में रहते हुए कांग्रेस ने इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था. मामला कोर्ट तक पहुंचा था. ईओडब्ल्यू ने खाद्य विभाग के अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध पाई है. प्रारंभिक जांच में यह तथ्य सामने आए हैं कि अप्रैल 2013 से दिसंबर 2016 तक कुल 11 लाख 8 हजार 515 टन चावल निरस्त राशनकार्डों में वितरित कर दिया गया. इससे शासन को 2 हजार 718 करोड़ रूपए की हानि हुई. ईओडब्ल्यू ने खाद्य विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों की भूमिका संदिग्ध मानते हुए भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7(C) एवं आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471, 120 बी के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है. प्रकरण दर्ज होने के बाद लोकसेवकों की भूमिका की जांच नए सिरे से की जाएगी.

ईओडब्ल्यू के मुताबिक अप्रैल 2013 से दिसंबर 2016 तक निरस्त राशन कार्डों में वितरित चावल की सब्सिडी की गणना की गई थी, जिसके आधार पर साल 2013 से 2016 तक कुल 11 लाख 8 हजार 515 टन चावल निरस्त राशनकार्डों में वितरित होना पाया गया. इससे शासन को 2 हजार 718 करोड़ रूपए की हानि हुई. निरस्त राशन कार्डों में वितरित किए गए खाद्यान्न को राशन दुकानों तक पहुंचाने तथा वितरण की जिम्मेदारी खाद्य विभाग के संचालनालय के अधिकारियों से लेकर विभिन्न जिलों में काम कर रहे अधिकारियों-कर्मचारियों की थी, लिहाजा सभी जांच के दायरे में आएंगे. राशन के परिवहन करने वाली एजेंसी भी जांच के जद में आएगी. ईओडब्ल्यू के अधिकारियों की माने तो विभागीय अधिकारियों ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर राशन कार्ड बनवाए. इन राशन कार्डों को असली बताकर खाद्यान्न का वितरण दिखाया गया. ईओडब्ल्यू की आंशका है कि इस आड़ में भ्रष्टाचार कर जुटाई गई करोड़ों रूपए की रकम कई प्रभावशाली लोगों तक बांटी गई.
ईओडब्ल्यू ने खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बताया कि उपरोक्त राशन कार्ड बनाये जाने से पहले 2011 की आर्थिक सामाजिक जनगणना में 56,50,724 परिवार थे. उपरोक्त आधार पर निर्धारित 56,50,724 में से सामान्य परिवार की संख्या को घटाकर (लगभग 20 प्रतिशत) पात्रता अनुसार राशनकार्ड बनाये जाने थे जो लगभग 45 लाख राशन कार्ड होना चाहिए किंतु वर्ष 2013 के अंत तक कुल 71,30,393 राशन कार्ड बनाये गये जिससे लगभग 14.80 लाख राशनकार्ड बोगस बनाया जाना स्पष्ट परिलक्षित होता है. खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, मई 2013 से दिसम्बर 2013 तक प्रदेश के 27 जिलों में 71,30,393 राशन कार्ड बनाये गये तथा जुलाई 2013 से दिसम्बर 2013 तक 41,8,47 राशन कार्ड निरस्त किये गये. वर्ष 2014 में 72,9,99 राशन कार्ड बनाये गये तथा 5,54,231 राशन कार्ड निरस्त किये गये, वर्ष 2015 में 3638 राशन कार्ड बनाये गये तथा 3,19,134 राशन कार्ड निरस्त किये गये, वर्ष 2016 में 19,886 राशन कार्ड बनाये गये तथा 1,36,785 राशन कार्ड निरस्त किये गये थे. खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, वर्ष सितंबर 2013 एवं अक्टूबर 2013 में 72,3000 राशनकार्ड के लिये कमशः 2,23,968 एम.टी, 2.27.020 मेट्रिक टन चांवल का आबंटन जारी किया गया. माह नवंबर और दिसंबर 2013 में क्रमशः 70.66 लाख और 70.62 लाख राशनकार्ड के लिये कमशः 2,18,974 एम.टी. और 2,23,401 मेट्रिक टन चांवल जारी किया गया जो कि 2011 में दर्शित परिवारों की संख्या से 16.80 लाख एवं 14.16 लाख ज्यादा थी. इससे यह स्पष्ट होता है कि यदि प्रदेश का सारे परिवारों का राशनकार्ड बना दिया जाता तो भी राशनकार्डो की संख्या 56 लाख से ज्यादा नहीं हो सकती थी. इससे यह स्पष्ट होता है कि लगभग 15 लाख राशनकार्डो में जो चावल वितरित होना दिखाया गया है वह खुले बाजार में उंची कीमत में बिकवाया गया है. सितम्बर 2013 से दिसम्बर 2013 तक लगभग 70 लाख से अधिक राशनकार्डो पर चावल एवं अन्य वस्तु का आंबटन किया गया बताया गया है, जबकि इस अवधि में 62 लाख से अधिक राशनकार्ड छापे. 10 लाख बोगस बनाये गये राशनकार्डो पर चावल आदि का वितरण वैध रूप से नहीं हुआ जिसकी जिम्मेदारी संचालनालय स्तर के अधिकारियों थी, जिनको राशन कार्ड संख्या के आधार आबंटन जारी करना था. दिनांक 06.10.2013 तक 62 लाख राशनकार्ड जिलों में भेजे जाने का उल्लेख है,  जिससे यह स्पष्ट होता है कि इस दिनांक तक केवल 62 लाख कार्ड ही प्रिंट हुए थे नियमतः इन्हीं राशनकार्डो पर आबंटन एवं वितरण किया जाना था किन्तु इस तिथि के पहले ही माह सितंबर और अक्टूबर में 72.03 लाख राशनकार्ड के लिये 2.23968 मेट्रिक टन चांवल आवंटित कर दिया गया है जब कि शेष 10 लाख राशनकार्ड प्रिंट भी नहीं हुए थे.
फर्जी राशन कार्ड घोटाले मामले को लेकर सबसे पहले फरवरी 2016 में हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई थी. इस पर सरकार को नोटिस जारी किया गया था. लेकिन सरकार ने मई 2018 में अपना जवाब पेश किया था. इस जवाब में सरकार ने गड़बड़ियां मानी थी. साल 2013 में राशन कार्ड की संख्या एकाएक बढ़ गई थी. जनसंख्या के आंकड़ों के मुताबिक 2013 में राज्य में कुल 59 लाख परिवार होने चाहिए थे, लेकिन तत्कालीन रमन सरकार ने 72 लाख राशन कार्ड जारी कर दिए. विपक्ष में रहते हुए कांग्रेस ने जब इन मुद्दों को जोर-शोर से उठाना शुरू किया. राजनीतिक तौर पर मामले की गर्माहट को देखते हुए तत्कालीन सरकार ने राशन कार्ड में कटौती की.
इधर बता दें कि नान घोटाला मामले के अहम किरदार रहे शिवशंकर भट्ट ने सितंबर 2019 को कोर्ट में दिए अपने शपथ पत्र में  2013 में 21 लाख फर्जी राशन कार्ड बनाने का उल्लेख करते हुए कहा- पूर्व सीएम के अलावा पूर्व मंत्री मोहले और तत्कालीन नान चेयरमैन लीलाराम भोजवानी ने फर्जी कार्ड बनवाए थे. इन राशन कार्डों का उपयोग 3 साल तक चावल, चना दाल, नमक, मिट्टी तेल, गैस और खाद्य पदार्थों की अफरा-तफरी में किया गया. इन फर्जी राशन कार्डों से हर महीने शासन को 266 करोड़, अर्थात सालभर में शासन को 3 हजार करोड़ का नुकसान हुआ. रमन सिंह ने लोगों के सामने स्वीकार किया कि 12 लाख कार्ड फर्जी हैं, उन्हें निरस्त किया जाएगा.

SHARE THIS

क्राइम

गांजा की तस्करी करने वाले आरोपी को खरोरा पुलिस ने किया गिरफ्तार

Published

on

SHARE THIS

संदीप छाबड़ा खरोरा अमनपथ :  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर  संतोष सिंह के द्वारा चलाये जा रहे नारकोटिक/ ड्रग्स व अवैध नशे खिलाफ कार्यवाही व जागरूकता अभियान के तहत्  अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण रायपुर  नीरज चन्द्राकर एवं नगर पुलिस अधीक्षक विधानसभा रायपुर सुरेन्द्र ध्रुव के निर्देशन में अभियान चलाकर आरोपी मानस तिवारी निवासी सारागांव द्वारा आरोपी मनोज अग्रवाल निवासी गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद से गांजा लेकर करता था थाना क्षेत्र में लुप-छिपकर बिक्री, पकड़ा गया रंगे हाथ।विवरण इस प्रकार है कि दिनांक 27.02.2024 को मुखबीर से सूचना प्राप्त हुआ कि मानस तिवारी पिता मनोज तिवारी ग्राम सारागांव निवासी ग्राम पिकरीडीह पुलिया मोड़ के पास मेनरोड में अपने पास बैगनी-गुलाबी रंग के प्लास्टिक झोला में बिक्री करने हेतु अवैध रूप से गांजा रखकर ग्राहक का इंतजार कर रहा है, जिस पर सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर आदेशानुसार तत्काल टीम तैयार कर रवाना होकर आरोपी मानस तिवारी को अवैध रूप से बिक्की करने हेतु अपने पास एक बैगनी- गुलाबी रंग के प्लास्टिक झोला के अंदर मादक पदार्थ गांजा रखे पकड़ा गया, जिस पर आरोपी के कब्जे से 1.105 किलोग्राम गांजा किमती लगभग 10000 रूपये को जप्त कर गिरफ्तार किया गया। आरोपी मानस तिवारी से गांजा तस्करी करने वाले गिरोह के बारे में पूछताछ कर जानाकरी ली गयी, जिसने बताया कि ग्राम गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद निवासी मनोज अग्रवाल से गांजा लेकर क्षेत्र में बिक्री करना बताया, जिस पर टीम तैयार कर महासमुंद आरोपी मानस तिवारी को लेकर गये, जहां उसके बताये अनुसार गांजा तस्कर करने वाले आरोपी मनोज अग्रवाल को भी पकड़ा गया जिसके कब्जे से अपने घर के अंदर रखे 3.079 किलोग्राम गांजा किमती लगभग 30000 रूपये को जप्त कर गिरफ्तार किया गया। दोनो आरोपियो को 14 दिवस का न्यायिक रिमाण्ड प्राप्त करने हेतु माननीय न्यायालय रवाना किया गया ।

अपराध क्रमांक 140/2024 धारा 20 बी नारकोटिक एक्ट।
दिनांक घटना समय 27.02.2024 को दोपहर 14.15 बजे।
रिपोर्ट समय 27.02.2024 को 16.25 बजे ।

नाम आरोपीगण
01. मानस तिवारी पिता मनोज तिवारी उम्र 23 साल साकिन सारागांव थाना खरोरा जिला रायपुर।
02. मनोज अग्रवाल पिता स्व. ओमप्रकाश अग्रवाल उम्र 42 साल साकिन गबौद थाना सांकरा जिला महासमुंद।

SHARE THIS
Continue Reading

क्राइम

कोल् माइंस डकैती कांड में 04 आरोपी गिरफ्तार,अभी तक 09 आरोपी हो चुके हैं गिरफ्तार

Published

on

SHARE THIS

रिपोर्टर मुन्ना पांडेय : अमेरा खुली खदान में हुये डकैती कांड के आरोपियों को लखनपुर पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल किया है।दरअसल प्रार्थी फेकू राम आत्मज पदूम शाह उम्र 51 वर्ष साकिन कुंजनगर थाना जयनगर जिला सूरजपुर ने अपने मैनेजर, उप क्षेत्रीय प्रबंधक सहित अन्य स्टाप कों सूचना दिया था कि घटना दिनांक 14 फरवरी 2024 कों अमेरा कोयला खदान के कोयला स्टॉक मे 11 से 12 व्यक्तियों द्वारा लाठी डंडा लेकर अंदर आकर सुरक्षा गॉर्ड कों जान से मारने की धमकी देते हुए ताम्बे का तार, कोयला एवं अन्य सामान की डकैती कर ले गये हैं। फरियादी के दरखास पर थाना लखनपुर मे आरोपियों के विरुद्ध अपराध क्रमांक 30/24 दफा 395 भा. द. वि. का अपराध दर्ज कर विवेचना मे लिया गया।

डकैती कांड के इस मामले मे लखनपुर पुलिस टीम ने पूर्व मे विधि से संघर्षरत एक बालक समेत कुल 05 आरोपियों कों गिरफ्तार किया गया था। शेष आरोपियों के सम्बन्ध मे मुखबीर तैनात किये गए थे । पुलिस टीम के सतत प्रयास से मामले मे शामिल आरोपियों से पूछताछ करने पर आरोपियों द्वारा अपना नाम (01)अमोल राजवाड़े उम्र 30 वर्ष साकिन चिलबिल लबझीयापारा लखनपुर (02) सींग साय राजवाडे उम्र 50 वर्ष सांकिन चिलबिल पण्डोपारा लखनपुर (03) गणेश राजवाड़े उम्र 43 वर्ष साकिन चिलबिल लखनपुर (04) भोले राजवाडे उम्र 30 वर्ष साकिन परसोड़ी थाना लखनपुर का होना बताये,आरोपियों से घटना के सम्बन्ध मे पूछताछ किये जाने पर आरोपियों ने इकबालिया बयान में अमेरा कोयला खदान मे लाठी डंडा लेकर कोयला स्टॉक मे घुसकर ताम्बे का तार, कोयला एवं अन्य सामान की डकैती कारनामे को अंजाम देना कबूल किया। आरोपियों के विरुद्ध अपराध सबूत पाये जाने से गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा मे भेजा गया।
सम्पूर्ण कार्यवाही मे सहायक उप निरीक्षक संदीप सिंह, प्रधान आरक्षक रवि सिंह, आरक्षक मुनेश्वर पैकरा, देवेंद्र सिंह, डॉक्टर सिंह सिदार, राकेश चतुरेश सक्रिय रहे।

SHARE THIS
Continue Reading

क्राइम

लंबे समय से फरार तीन स्थायी वारंटी गिरफ्तार

Published

on

SHARE THIS

रायगढ़:  एसपी दिव्यांग कुमार पटेल के निर्देशन पर संपत्ति संबंधी अपराधों माल मुल्जिम की पतासाजी के लिए संदिग्ध एवं पूर्व में संपत्ति संबंधी अपराधों में शामिल रहे आरोपियों की सघन जांच, फरार आरोपियों/ वारंटियों की पतासाजी के क्रम में आज दिनांक 25/02/2024 को जूटमिल पुलिस की टीम द्वारा लंबे समय से फरार तीन वारंटियों को मुखबिर सूचना पर ग्राम गढउमरिया में दबिश देकर थाना लाया गया।

पकड़े गये वारंटी- श्यामसुंदर उर्फ भोकोदोलो पिता शोभनाथ खड़िया उम्र 45 साल, कैलाश यादव पिता गुलाब यादव उम्र 23 साल, सुशील खड़िया पिता तेजराम खड़िया उम्र 22 साल तीनों निवासी ग्राम आमामुडा गढउमरिया थाना जूटमिल जिला रायगढ़ के रहने वाले हैं। वर्ष 2020 के मारपीट के मामले में तीनों आरोपी रहे हैं न्यायालय उपस्थित नहीं जिन पर माननीय न्यायालय द्वारा तीनों का स्थायी वारंट जारी किया गया है। थाना प्रभारी जूटमिल निरीक्षक मोहन भारद्वाज द्वारा संपत्ति संबंधी अपराधों में माल मुल्जिम की पतासाजी के लिए लगाये मुखबीरों से लगातार संपर्क कर जानकारी ली जा रही है जिन पर इन फरार वारंटियों के गांव में देखे जाने की सूचना पर इन्हें गिरफ्तार कर वारंट के परिपालन में न्यायालय पेश किया गया है।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending