Connect with us

आस्था

*नगर के सिद्धेश्वर मंदिर में महाशिवरात्रि के पर्व पर भक्तों की रही भीड़ ,जल चढ़ाने पहुँचे जिले के कलेक्टर और ए.एस.पी.*  

Published

on

SHARE THIS

हेमंत बघेल संवाददाता पलारी। नगर में स्थित सिध्देश्वर मंदिर में आज शुक्रवार को महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर भव्य मेला का आयोजन नगरवासी द्वारा किया गया था। जहां महाशिवरात्रि के पर्व को नगरवासियों ने बड़ी ही धूमधाम से मनाया।

नगर स्थित सिद्धेश्वर शिव मंदिर की सुंदरता को निहारने शिवरात्रि पर भक्त बड़ी संख्या में पहुॅचे। वहीं इस मंदिर में देर शाम तक भक्तों की लम्बी-लम्बी कतार लगी रही, शिवरात्रि के अवसर पर नगर का मेला देखने लायक था। शिवरात्रि पर शिव भक्त उपवास रहते है और भगवान शिव के ऊपर जल चढ़ाने के बाद उपवास तोड़ते है, वही महाशिवरात्रि के पर्व पर बच्चों से लेकर उम्रदराज लोग आज के दिन मनोकामना को पूरा करने के लिये उपवास रखकर भगवान की पूजा अर्चना की गई। मंदिर में आज विशेष पूजन अर्चना की गई आज श्रद्धालु भगवान शिव की आराधना में लीन रहे है तो वहीं शिव मंदिरों को दुल्हन की तरह सजाया गया है।

बता दे कि महाशिवरात्रि के अवसर पर पलारी के सिध्देश्वर मंदिर में जिले के कलेक्टर कार्तिकीया गोयल और (ASP) निवेदिका पाल भी शंकर भगवान का आशीर्वाद और जल चढ़ाने पहुँचे ।

SHARE THIS

आस्था

नवरात्रि के चौथे दिन मां कूष्‍मांडा की चाहिए कृपा तो जाने लें इस दिन की पूजा, मंत्र और विधि

Published

on

SHARE THIS

आज चैत्र शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि और शुक्रवार का दिन है। चतुर्थी तिथि आज दोपहर 1 बजकर 12 मिनट तक रहेगी। आज चैत्र नवरात्र का चौथा दिन है। आज देवी दुर्गा के चौथे स्वरूप मां कूष्‍मांडा की उपासना की जाएगी। कूष्मांडा, यानि कुम्हड़ा। कूष्मांडा एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है- कुम्हड़ा यानि कि कद्दू जिसका हम घर में सब्जी के रूप में इस्तेमाल करते हैं। मां कूष्मांडा को कुम्हड़े की बलि बहुत ही प्रिय है, इसलिए मां दुर्गा का नाम कूष्मांडा पड़ा।

मां कूष्‍मांडा का ऐसा है स्वरूप

देवी मां की आठ भुजायें होने के कारण इन्हें अष्टभुजा वाली भी कहा जाता है। इनके सात हाथों में कमण्डल, धनुष, बाण, कमल, अमृत से भरा कलश, चक्र और गदा नजर आता है, जबकि आठवें हाथ में जप की माला रहती है। माता का वाहन सिंह है और इनका निवास स्थान सूर्यमंडल के भीतर माना जाता है, तो आज मां कूष्मांडा की उपासना करना आपके लिये बड़ा ही फलदायी होगा। आज आपको देवी मां के इस मंत्र का 21 बार जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है- सुरासम्पूर्ण कलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्त पद्माभ्यां कूष्‍मांडा शुभदास्तु मे॥ आज मां कूष्मांडा के इस मंत्र का जप करने से आपके परिवार में खुशहाली आएगी और आपके यश तथा बल में बढ़ोत्तरी होगी। इसके अलावा आपकी आयु में वृद्धि होगी और आपका स्वास्थ्य भी अच्छा बना रहेगा।

माता के इन मंत्रों के जाप से मिलेगी जीवन की परेशानियों से छुटकारा-

    • अपने जीवन में चल रही परेशानियों से जल्द छुटकारा पाने के लिए देवी मां के इस मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र इस प्रकार है- दुर्गतिनाशिनी त्वंहि दारिद्रादि विनाशिनीम्। जयंदा धनदां कूष्माण्डे प्रणमाम्यहम्॥
    • अपनी बौद्धिक क्षमता में बढ़ोतरी के लिये और परीक्षा में अच्छे रिजल्ट के लिए देवी मां के विद्या प्राप्ति मंत्र का 5 बार जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है- ‘या देवी सर्वभूतेषु बद्धि-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
  • अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिये आज देवी मां को मालपुओं का भोग लगाए और उनके इस मंत्र का 11 बार जप करें। मंत्र है – जगन्माता जगतकत्री जगदाधार रूपणीम्। चराचरेश्वरी कूष्माण्डे प्रणमाम्यहम्॥
  • अपने घर की सुख-शांति और समृद्धि बढ़ाने के लिये आज देवी के शांति मंत्र का 21 बार जप करें। मंत्र इस प्रकार है- या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
  • साथ ही आज गुलाब के फूल में कपूर रखकर माता कुष्मांडा के सामने रखे। फिर माता लक्ष्मी के मंत्र का 6 माला जप करें। मंत्र इस प्रकार है- ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम: शाम के समय फूल में से कपूर लेकर जला दें और फूल देवी को चढ़ा दें।
  • इसके आलावा आज नवरात्र चतुर्थी की शाम में बेल के पेड़ की जड़ पर मिट्टी, इत्र, पत्थर और दही चढाएं और अगले दिन सुबह फिर से मिट्टी, इत्र, पत्थर और दही चढा कर, बेल के पेड़ के उत्तर पूर्व दिशा की एक छोटी टहनी तोड़कर घर ले आएं इस टहनी पर रोज 108 बार लक्ष्मी मंत्र पढ़िये और टहनी को नवमी के दिन तिजोरी में रखें। मंत्र इस प्रकार है- ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम:

मां कूष्मांडा को जरूर लगाएं ये भोग

देवी कूष्मांडा को प्रसन्न करने के लिए आज उन्हें मालपुआ का भोग लगाएं। माता रानी को मालपुआ का भोग लगाने से आपके जीवन में मिठास सदैव बनी रहेगी। इसके साथ ही देवी मां की अपार कृपा आपके घर-परिवार पर बरसती रहेगी।

SHARE THIS
Continue Reading

आस्था

नवरात्रि के चौथे दिन इन राशियों को होगा लाभ, पढ़ें अपना राशिफल

Published

on

SHARE THIS

Aaj Ka Rashifal 12 April 2024: आज चैत्र शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि और शुक्रवार का दिन है। चतुर्थी तिथि आज दोपहर 1 बजकर 12 मिनट तक रहेगी। आज चैत्र नवरात्र का चौथा दिन है। आज देर रात 2 बजकर 12 मिनट तक सौभाग्य योग रहेगा। साथ ही आज रात 12 बजकर 51 मिनट तक रोहिणी नक्षत्र रहेगा। इसके आलावा आज वैनायकी श्री गणेश चतुर्थी व्रत है।  जानिए कैसा रहेगा आपके लिए 12 अप्रैल 2024 का दिन और किन उपायों से आप ये दिन बेहतर बना सकते हैं। साथ ही जानते हैं कि आपके लिए लकी नंबर और लकी रंग कौन सा होगा।

मेष राशि-

आज आपका दिन फेवरेबल रहेगा। इस राशि के इंजीनियर्स के लिए आज का दिन फायदा देने वाला है। आज ऑफिस के किसी कार्य में सीनियर्स की मदद से आपको थोड़ी राहत मिलेगी। आज घर में बच्चों के साथ आपका अच्छा टाइम बितेगा। माता पिता बच्चो को कोई अच्छी सलाह भी दे सकते हैं। छात्रो को आज ऑनलाईन कुछ नया सीखने को मिलेगा। आज आपके पास बिजनेस को आगे बढ़ाने का अच्छा मौका है। मां दुर्गा को पान का पत्ता चढ़ाएं, आपकी परिवारिक परेशानियां दूर होंगी।

  • शुभ रंग- लाल
  • शुभ अंक- 2

वृष राशि- 

आज आपका दिन अच्छा रहेगा। इस राशि की महिलाओं के लिए आज का दिन बहुत ही खास है। अपना समय शॉपिंग में बिता सकती हैं। नौकरी की तलाश कर रहे लोगो को आज किसी मल्टी नेशनल कम्पनी से कॉल आ सकती है। दांपत्य जीवन में आज मधुरता बनी रहेगी। कॉम्पटीशन की तैयारी कर रहे छात्रों को तैयारी जारी रखनी चाहिए। दोस्तों की सलाह आज आपके बहुत काम आयेगी। मां कूष्मांडा को इलायची अर्पित करें, जीवन में खुशियों की प्राप्ती होगी।

  • शुभ रंग- हरा
  • शुभ अंक- 8

मिथुन राशि- 

आज आपका दिन शानदार रहेगा। व्यापार को बढ़ाने के लिए आप कोई नया प्लान बनायेंगे। किसी बुजुर्ग महिला की सेवा का अवसर मिलेगा इसे आप सौभाग्य के रूप में समझे। आज आपके ज्यादातर सोचे हुए कामों पूरे हो जाएंगे। छात्र कोशिश करते रहे, सफलता के योग बने हुये है। अपनी स्थिति और योग्यता के हिसाब से ही काम करें। मां दुर्गा को इलायची चढाए, आपकी मेहनत रंग लाएगी।

  • शुभ रंग- नारंगी
  • शुभ अंक- 4

कर्क राशि-  

आज आपका दिन ठीक रहने वाला है। आप परिवार के साथ समय बिताएंगे। घर में खुशी का महौल बना रहेगा। आपकी कड़ी मेहनत से लोग प्रभावित होंगे और आपका अनुसरण करेंगे। आज आप ऑफिस के किसी काम में उलझे रहेंगे। इस राशि के स्टूडेंट्स कॉलेज में कुछ नया सीखेंगे और पढ़ाई की तरफ झुकाव बढ़ेगा। रोज की अपेक्षा आज व्यापार में अच्छा मुनाफा होगा। आर्थिक पक्ष पहले से मजबूत रहेगा। स्वास्थ्य फिट रखने के लिए ताजे फल खायें। मां कूष्मांडा को फूल अर्पित करें, स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

  • शुभ रंग- बैंगनी
  • शुभ अंक- 3

सिंह राशि- 

आज आपका दिन बढ़िया रहने वाला है। राजनीति से जुड़े लोगों के लिए दिन अच्छा है समाज हित में किये गये कामों की तारीफ़ हो सकती है। आज आपको उच्चाधिकारी के सामने बात रखने पर.. पॉजीटिव रिस्पॉन्स मिलेगा। आज रोजगार में नई उपलब्धि मिलने के योग हैं। बिजनेस में आपको फायदा हो सकता है। घरेलू जरूरत की चीजों की खरीददारी करेंगे। किसी खास व्यक्ति का सहयोग आपको मिलेगा। मां दुर्गा की आरती करें, आपकी आमदनी में बढ़ोतरी होगी।

  • शुभ रंग- बैंगनी
  • शुभ अंक- 5

कन्या राशि- 

आज आपका दिन मिला-जुला रहेगा। आपको मेहनत का फल जरूर मिलेगा। कई दिनों से चल रहीं कड़ी मेहनत आज आपको सफल बना सकती है। आज आपको कोई बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है जिन्हे आप बखूबी निभाएंगे। आज किसी काम को पूरा करने के लिए आस-पास के कई लोग आपको सलाह देगें। जीवनसाथी पर भरोसा बनायें रखें, रिश्ते मजबूत होंगे। सेहत के लिहाज से आप ठीक रहेंगे। पारिवारिक समस्या दूर होगी, घर में खुशहाली बनी रहेगी। मां कूष्मांडा के आगें माथा टेके, करोबार में बरकत होगी।

  • शुभ रंग- सफेद
  • शुभ अंक- 2

तुला राशि-

आज आपका दिन बेहतरीन रहेगा। आज कोई बुजुर्ग या वरिष्ठ व्यक्ति आपको सही सलाह दे सकता है। आज आपको पुरानी बातें याद आ सकती हैं। आज व्यापारिक मामलों में आपकी व्यस्तता बढ़ेगी। आपकी आर्थिक स्थिति पहले से अच्छी होगी। अपनी गलतियों से सीखकर आगे बढ़ने की प्रेरणा आपको मिलेगी। किसी दूसरों की नक़ल न करें अपने आप पर विश्वास करें। मां कूष्मांडा के सामने घी का दीपक जलाएं, जीवन में दूसरे लोगों का सहयोग मिलता रहेगा।

  • शुभ रंग- भूरा
  • शुभ अंक- 9

वृश्चिक राशि-  

आज आपका दिन ठीक-ठाक रहेगा। इस राशि की महिलाएं जो घर पर ही कोई बिजनेस करने की सोच रही है उनके लिए आज का दिन अच्छा है। किसी भी काम को करने में जल्दबाजी न करें ,अन्यथा वह काम

दोबारा करना पड़ सकता है। अपने बिजी शेड्यूल से थोड़ा समय ईश्वर की आराधना के लिए निकालें मन शांत रहेगा। आज आप अपने व्यवहार को निखारने की कोशिश करेंगे। मां दुर्गा का ध्यान करें सेहत अच्छी बनी रहेगी।

  • शुभ रंग- पिच
  • शुभ अंक- 1

धनु राशि-  

आज आप लोगों को अपनी योजनाओं से सहमत कर लेंगे। अगर आप नयी जमीन लेने का प्लान बना रहे हैं तो घर के बड़ों की राय जरूर लें। इस राशि के स्टूडेंट्स के लिए आज का दिन संतोषजनक रहेगा कुछ नया सीखने को मिलेगा। लवमेट अपने मन की बात शेयर करेंगे। इससे रिश्तों में मधुरता बनेगी। शाम को परिवार के साथ किसी जरूरी मामले पर बात होगी जहां आप खुलकर अपनी राय रखेंगे। आप किसी नई तकनीक को सीखने की कोशिश करेंगे। मां कूष्मांडा को मीठे का भोग लगाएं, आपको किस्मत का सहयोग मिलेगा।

  • शुभ रंग- काला
  • शुभ अंक- 9

मकर राशि- 

आज आपका दिन आपके अनुकूल रहेगा। आज आपको अपनी सोच सकारात्मक बनाये रखने की आवश्यकता है। इस राशि के स्टूडेंट आज अपनी पढ़ाई को लेकर उत्साहित होंगे और ज्यादा समय पढ़ाई में बीतेगा, यह देखकर आपके घर को खुशी होगी। इस राशि के टैक्सटाइल व्यापारी वर्ग को आज अचानक कोई बड़ा फायदा हो सकता है। आर्थिक पक्ष पहले से मजबूत बनेगा। मां दुर्गा को लाल चुनरी चढ़ाए, समाज में आपका सम्मान बढ़ेगा।

  • शुभ रंग- मैजेंटा
  • शुभ अंक- 7

कुंभ राशि- 

आज आपका दिन फेवरेबल रहेगा। ऑफिस में कार्यशीलता के लिए आपको सम्मानित किया जा सकता है। आज आपके तय किए काम समय से पूरे होते हुए नजर आ रहे हैं। साथ ही कुछ काम वक्त से पहले पूरे होने से प्रसन्नता होगी। दोस्ती में चल रही अनबन को ख़त्म करने के लिए आप हाथ बढ़ा सकते हैं। आज आपको कार्यों में जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। आपकी सकारात्मक सोच आपको लाभ दिलायेगी। मां दुर्गा को लौंग अर्पित करें, आपके सभी रूके हुए काम बनेंगे।

  • शुभ रंग- गुलाबी
  • शुभ अंक- 6

मीन राशि- 

आज आप अपने खर्चे पर कंट्रोल करने की कोशिश करेंगे। आज आप धार्मिक कार्यों में रूचि लेंगे। इस राशि के स्टूडेंट्स के लिए आज का दिन सफलता दिलाने वाला है। माता पिता से आशीर्वाद लेने से आपकी सभी परेशानियों का हल मिलेगा। आज आपकी सेहत अच्छी रहेगी। साथ ही किसी धार्मिक आयोजन का हिस्सा भी बनेंगे। जीवनसाथी के साथ आज आप कहीं घूमने जाएंगे। मां कूष्मांडा के आगें हाथ जोडें, रूकें हुए काम पूरें होंगे।

  • शुभ रंग- पीला
  • शुभ अंक- 3

SHARE THIS
Continue Reading

आस्था

माता के नौ रूप स्त्री की इन नौ अवस्थाओं के हैं प्रतीक, जानें कौन सा रूप क्या दर्शाता है

Published

on

SHARE THIS

नवरात्रि के दौरान भक्त माता दुर्गा के नौ रूपों की विधि-विधान से पूजा करते हैं। पहले दिन माता के रूप शैलपुत्री की पूजा के साथ नवरात्रि की शुरुआत होती है और नवरात्रि के अंतिम दिन सिद्धिदात्री रूप की पूजा के साथ नवरात्रि समाप्त होती है। मान्यताओं के अनुसार, माता के नौ रूप स्त्री के जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक की अवस्थाओं का प्रतीक हैं। आज हम आपको इसी विषय में विस्तार से जानकारी देंगे।

शैलपुत्री 

माता शैलपुत्री स्त्री के बाल रूप का प्रतीक मानी गयी हैं। जैसे शैलपुत्री अपने पिता ‘शैल’ यानि पर्वतराज हिमालय के नाम से जानी जाती हैं वैसे ही बाल रूप में स्त्री भी अपने पिता के नाम से जानी जाती है। अर्थात माता का ये रूप नवजात बालिका का प्रतीक है।

ब्रह्मचारिणी 

माता का दूसरा रूप है ब्रह्मचारिणी, पुत्री के ब्रह्मचर्य काल को दर्शाता है साथ ही इसी दौरान बालिका शिक्षा अर्जित करती है और अपने ज्ञान में वृद्धि करती है। यानि माता का यह रूप शिक्षा अर्जित करने वाली बालिका का प्रतीक है।

चंद्रघंटा

माता का यह स्वरूप शिक्षित और ज्ञान से परिपूर्ण स्त्री या बालिका का प्रतीक है। माता के इस रूप की दस भुजाएं दर्शाती हैं की स्त्री अब अपने ज्ञान से समाज में स्थिरता और विकास के लिए तैयार है।

कुंष्मांडा

माता दुर्गा का चौथा रूप कुष्मांडा माता का है। इस रूप में माता के हाथ में एक घड़ा होता है जिसे गर्भ का प्रतीक माना जाता है। यानि माता का ये रूप गर्भवती महिला का प्रतीक है।

स्कंदमाता 

यह स्वरूप महिला के मातृ स्वरूप को दर्शाता है। स्कंदमाता की गोद में एक शिशु को दर्शाती कई तस्वीरों को आपने देखा होगा।

कात्यायनी 

जैसे माता कात्यायनी ने महिषासुर का वध किया था, वैसे ही माता का यह रूप स्त्री के उस स्वरूप को दर्शाता है जिसमें माता बनी स्त्री सभी बुराइयों को अपने बच्चे से दूर रखती है और अवगुणों को उसके अंदर घर नहीं करने देती।

कालरात्रि 

माता के इस रूप को अत्यंत उग्र और शक्तिशाली माना जाता है। यह रूप स्त्री के पारिवारिक जीवन में आ रहे संघर्षों पर विजय का प्रतीक माना गया है।

महागौरी

माता का यह रूप स्त्री की परिपक्वता और स्थिरता को दर्शाता है। जीवन के सभी संघर्षों पर विजय पाकर स्त्री संपन्नता की ओर अपने परिवार को ले जाती है। इसलिए नवरात्रि में अष्टमी की पूजा का बड़ा महत्व है। अष्टमी की पूजा करने से घर में संपन्नता आती है।

सिद्धिदात्री 

माता का यह रूप स्त्री के वृद्ध और ज्ञानमय स्वरूप का प्रतीक है। अपने अनुभव और समझदारी से स्त्री इस रूप में अपने परिवार के साथ ही समाज का भी कल्याण करती है और नई पीढ़ियों को अच्छे गुण देकर जाती है।

SHARE THIS
Continue Reading

खबरे अब तक

WEBSITE PROPRIETOR AND EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Rashid Jafri
Web News Portal: Amanpath News
Website : www.amanpath.in

Company : Amanpath News
Publication Place: Dainik amanpath m.g.k.k rod jaystbh chowk Raipur Chhattisgarh 492001
Email:- amanpathasar@gmail.com
Mob: +91 7587475741

Trending